Petrochemical Engineering से B.Tech कैसे करें?

अगर आप पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में बीटेक कोर्स करना चाहते हैं और इसके बारे में सारी डिटेल्स जैसे की पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग क्या है,पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में बीटेक करने के क्या फायदे और पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में बीटेक का सिलेबस,स्कोप और इसको करने के बाद जॉब और सैलरी क्या मिलती है इन सब चीजों को अच्छे से डिटेल्स में इस पोस्ट में कवर किया गया है।

Petrochemical Engineering से B.Tech कैसे करें?

बीटेक पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग इंजीनियरिंग स्ट्रीम का ही एक चार वर्षीय कोर्स है। पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग का उद्देश्य हाइड्रोकार्बन के उत्पादन के बारे में छात्रो को ज्ञान प्रदान करना है।

पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग के कोर्स में विभिन्न विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है जिसमें गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान, भूविज्ञान, अर्थशास्त्र, ऊष्मप्रवैगिकी और अन्य विषय शामिल हैं।

पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग से बी टेक करने के लिए छात्रो को भौतिकी, रसायन विज्ञान, गणित और अंग्रेजी में कुल 50% अंकों की आवश्यकता होती है।

पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग से बी टेक करने के लिए छात्र की अधिकतम आयु पर कोई प्रतिबंध नहीं है। पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री पूरी करने से आप एक अच्छी नौकरी के हक़दार बन सकते है।

पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन करने के बाद लोगो को ड्रिलिंग इंजीनियर, प्रोडक्शन इंजीनियर, चीफ पेट्रोलियम इंजीनियर, अपतटीय ड्रिलिंग इंजीनियर, जलाशय इंजीनियर, आदि जैसे पदों पर सरकारी और प्राइवेट दोनों संगठनों में नौकरी के विभिन्न अवसर मिलेंगे।

अगर सैलरी की बात की जाए तो बी.टेक पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में औसत शुरुआती प्लेसमेंट पैकेज 3,30,000 PA से  60,00,00 PA के बीच मिल जाता है साथ ही पेट्रोलियम इंजीनियरिंग लाइन में जैसे जैसे आपका अनुभव बढ़ता जयेगा उसी तरह सैलरी में भी वृद्धि होती है।

बीटेक पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग  कोर्स हाईलाइट 

Course Level Undergraduate Education
Full-Form Bachelor of Technology in Petrochemical Engineering
Duration 4 Years
Semesters 8
Exam Type Multiple Choice Questions
Eligibility Must have completed 10+2 level with an aggregate of 50% marks in Physics, Chemistry, Mathematics, and English.
Admission Process Entrance Exam
Average Course Fee INR 2,00,000 P.A
Average Salary INR 3,30,000 P.A
Top Recruiting Companies Oil and Natural Gas Corporation Limited (ONGC), Bharat Petroleum Corporation Limited (BPCL), Indian Oil Corporation Limited (IOCL), Hindustan Petroleum Corporation Limited (HPCL), GAIL, Essar Oil, Hindustan Oil Exploration Company Ltd (HOEC)

B Tech Petrochemical Engineering: Eligibility Criteria

पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में बीटेक कोर्स करने के लिए कुछ एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया नीचे दिए गए जिन्हे पूरा करना आवश्यक है।

  • उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या विश्वविद्यालय से 10+2 स्तर पूरा करना चाहिए।
  • उम्मीदवारों के पास 11वीं और 12वीं कक्षा में अनिवार्य विषयों के रूप में भौतिकी, रसायन विज्ञान, गणित और अंग्रेजी होनी चाहिए।
  • 10+2  के स्तर में कुल 50% अंक प्राप्त किया जाना चाहिए।
  • 10वीं के बाद डिप्लोमा करने वाले उम्मीदवार भी इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • कोई अधिकतम आयु प्रतिबंध नहीं है। लेकिन इस कोर्स के लिए आवेदन करने के समय आवेदक की आयु कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिए।

B Tech Petrochemical Engineering: Step-by-Step guide for Admission

पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में बीटेक कोर्स के लिए एडमिशन की प्रकिया को नीचे बतया गया है आप इन चरणों पालन करके एडमिशन के लिए आवेदन कर सकते है।

  • Registration: इसके लिए उपस्थित होने के लिए उम्मीदवारों को परीक्षा के लिए पंजीकरण करना होगा।
  • Form Filling: निर्धारित समयावधि में फॉर्म भरें। सुनिश्चित करें कि सभी विवरण सही और सही तरीके से भरे गए हैं।
  • Application Fee:आवेदन शुल्क का भुगतान ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरीकों से किया जा सकता है।
  • Admit Card:परीक्षा से करीब एक हफ्ते पहले सभी योग्य आवेदकों के एडमिट कार्ड जारी कर दिए जाएंगे। उम्मीदवारों को इन एडमिट कार्डों को प्रिंट करना होगा और उन्हें आवंटित परीक्षा केंद्र पर ले जाना होगा।
  • Examination: आवश्यक पाठ्यक्रम के अनुसार परीक्षा की तैयारी करें और घोषित परीक्षा के दिन परीक्षा में शामिल हों।
  • Results: कुछ हफ़्ते की परीक्षा के बाद परिणाम घोषित किए जाएंगे। यदि योग्य हैं, तो उम्मीदवार अगले दौर के लिए आवेदन करेंगे।
  • Counseling: परीक्षा पास करने वाले छात्रों को काउंसलिंग के लिए बुलाया जाएगा। जहां वे अपने लिए उपलब्ध पाठ्यक्रम और संस्थान के विकल्प पर निर्णय लेंगे

बी टेक पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग क्या है?

पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग केमिकल इंजीनियरिंग कोर्स की ही एक उप-शाखा है। पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में बीटेक कोर्स में, छात्रों को पारंपरिक और आधुनिक दोनों तरीकों का उपयोग करके कच्चे तेल को परिष्कृत (Refining) करने की प्रक्रिया में शामिल विभिन्न कार्यों के बारे में पढ़ाया जाता है।

पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में छात्र स्रोत की खोज, तेल की निकासी, और तेल और अन्य प्राकृतिक गैसों के दोहन जैसी गतिविधियों में सभी यांत्रिक और तकनीकी भागीदारी के बारे में भी सीखते हैं।

पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग कोर्स में रसायन विज्ञान, भौतिकी, अर्थशास्त्र, गणित और भूविज्ञान जैसे विषयों की कुछ बुनियादी अवधारणाओं का एक संयोजन है। पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग कोर्स का उद्देश्य कच्चे तेल के आसान निष्कर्षण के तंत्र और प्रौद्योगिकियों में आधुनिक तार्किक डिजाइन विकास के ज्ञान का प्रचार करना है।

बी टेक पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में नौकरी की संभावनाएं

Petrochemical Engineering से B.Tech करने के बाद कई उद्योग पेट्रोकेमिकल इंजीनियरों के लिए एक संभावित कैरियर प्रदान करते हैं, इनमें से कुछ उद्योग हैं:

  • Oil and gas extraction
  • Support activities for mining
  • Educational Institutes
  • Management of company and enterprises
  • Petroleum and coal products manufacturing
  • Engineering Services
  • Material Scientists
  • Sales Engineers

बी टेक पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग पूरा करने के बाद कुछ शीर्ष नौकरी प्रोफाइल नीचे सूचीबद्ध हैं::

Principal Petroleum Engineer-ऑपरेटिंग वातावरण के विविध सेट में उत्पादन वृद्धि और सिस्टम अनुकूलन की पहचान करना और निष्पादित करना।

Operations Manager-संगठन में सही प्रक्रिया और अभ्यास पर नज़र रखने और लागू करने के लिए। कर्तव्यों में प्रदर्शन में वृद्धि, सामग्री की खरीद, रणनीति तैयार करना आदि शामिल हैं।

Engineering Services-इनका मुख्य काम सुरक्षित निष्कर्षण और विभिन्न आवश्यक सेक्टर तत्वों के निर्माण के लिए एक मजबूत सेटअप तैयार करना।

Oil and gas extraction-तेल और प्राकृतिक गैस जैसे हाइड्रोकार्बन जमा के निष्कर्षण की प्रक्रिया के दौरान सुरक्षा सुनिश्चित करना।

Petroleum and coal products manufacturing-विभिन्न पेट्रोलियम और कोयला उत्पादों की उत्पादन इकाई चलाने की जिम्मेदारी इनकी होती है।

Support activities for mining- इनका मुख्य काम अयस्क च्यूट का संचालन और रखरखाव, भूमिगत खदान में अयस्क का नियंत्रण प्रवाह, बुलडोजर जैसे निर्माण उपकरण चलाने आदि जैसे संचालन करना।

Conclusion

इस पोस्ट के माध्यम से आज हमने जाना Petrochemical Engineering से B.Tech कैसे करें और पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में बीटेककरने के क्या फायदे है साथ ही इस पोस्ट में पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में बीटेक की फीस,सिलेबस, टॉप कॉलेज,स्कोप और सैलरी की सारी डिटेल्स को भी हमने अच्छे से जाना।

Ravi Girihttps://hinditechacademy.com/
नमस्कार दोस्तों, मै रवि गिरी Hindi Tech Academy का संस्थापक हूँ, मुझे पढ़ने और लिखने का काफी शौख है और इसीलिए मैंने इस ब्लॉग को बनाया है ताकि हर रोज एक नयी चीज़ के बारे में अपने ब्लॉग पर लिख कर आपके समक्ष रख सकू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,566FansLike
823FollowersFollow

Must Read