Difference Between Active and Passive Attacks in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between Active and Passive Attacks in Hindi में जानेंगे की Active और Passive attack के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between Active and Passive Attacks in HindiDifference Between Active and Passive Attacks in Hindi

अगर Active Attack और Passive Attack के बीच के मुख्य अंतर की बात करे तो एक्टिव अटैक में एक Attacker किसी डाटा और इनफार्मेशन को संशोधित(Modify) करने की कोशिश करता है। जबकि Passive Attack में एक एक Attacker किसी इनफार्मेशन को देखता है और उसे कॉपी करता है और फिर उसका इस्तेमाल किसी दुर्भावनापूर्ण उद्देश्यों के लिए कर सकता है।

हमारे कंप्यूटर सिस्टम की सेक्युरेरिटी को Corrupt और Break करने के लिए विभिन्न प्रकार के खतरे, हमले और कमजोरियां मौजूद हैं। जिनका इस्तेमाल करके Attacker हमारे मत्वपूर्ण डाटा को चुरा या डिलीट कर सकते है। वैचारिक रूप से  security attacks  को दो प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है जो Active Attack और Passive Attack हैं।

इन दोनों से ही एक Attacker हमारे  सिस्टम के संसाधनों को अवैध  तरीके से एक्सेस कर सकता है। Active Attack और Passive Attack में और भी अंतर होते है जिनको हम Difference Table के माध्यम से नीचे समझेंगे लेकिन उससे पहले हम Active Attack और Passive Attack क्या होता है इसको और अच्छे से जान लेते है।

What is Active Attacks in Hindi-एक्टिव अटैक किसे कहते है?

Active Attack जिनमें अटैकर किसी इनफार्मेशन को बदलने या संशोधित करके उसको एक गलत मैसेज बनाने की कोशिश करता है। एक्टिव अटैक इंटीग्रिटी के साथ-साथ उपलब्धता के लिए भी खतरा है।Active Attack के कारण  System हमेशा क्षतिग्रस्त होती है और System के Resource को बदला जा सकता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि Active Attack में विक्टिम को हमले के बारे में इन्फॉर्म  किया जाता है। संभावित नेटवर्क और सॉफ्टवेयर में कमजोरियों की एक विस्तृत श्रृंखला के कारण इस प्रकार के हमलों की रोकथाम करना काफी कठिन है।

मान लें कि दो कंप्यूटर या कोई कम्युनिकेशन डिवाइस आपस में कनेक्ट हैं और वे एक दूसरे के साथ डेटा ट्रांसमिट कर रहे हैं। एक्टिव अटैक में, हमलावर न केवल डेटा को Observes करता है, बल्कि उसके डायरेक्टली एक्सेस भी करता है और हमलावर उस डेटा इनफार्मेशन को पढ़कर उसको बदल भी सकता है। दूसरे शब्दों में, जो डेटा ट्रांसमिट किया जाता है, उसे किसी तीसरे क्लाइंट द्वारा अवैध रूप से संशोधित किया जाता है जिसे एक्टिव अटैक कहा जाता है।

What is Passive Attacks in Hindi-पैसिव अटैक किसे कहते है?

Passive Attack में Attacker कम्युनिकेशन के दौरान में सेंड और रिसीव किए गए हर इनफार्मेशन या डेटा को देख सकता है लेकिन वह इसे अपडेट या संशोधित नहीं कर सकता है। इसलिए Users को Passive Attack के बारे में पता भी नहीं चल पता है कि उनके द्वारा की जा रही कम्युनिकेशन को कोई तीसरा पर्सन भी देख रहा है।

हमारे सेंसटिव डेटा और इनफार्मेशन के लिए Passive Attack को बहुत ही खतरनाक माना जाता है क्योकि इसमें Attacker चुपचाप सभी डेटा और इनफार्मेशन को पढ़ सकता है और वह भविष्य में उस आपके उस डेटा का उपयोग खतरों को पैदा करने के लिए कर सकता है।

डेटा और इनफार्मेशन के आलावा Passive Attack से हमारे सिस्टम को कोई खतरा नहीं होता। Passive Attack की सबसे महत्वपूर्ण बात यह भी है की इस तरह के अटैक में विक्टिम को हमले के बारे में सूचित नहीं किया जाता है।

Difference Between Active and Passive Attacks in Hindi

अभी तक ऊपर हमने जाना की Active Attack और Passive Attack किसे कहते है? अगर आपने ऊपर दी गयी सारी चीजे ध्यान से पढ़ी है तो आपको Active Attack और Passive Attack के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा।

अगर आपको अब भी Active Attack और Passive Attack में कोई confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

S.NO ACTIVE ATTACK PASSIVE ATTACK
1. एक्टिव अटैक में इनफार्मेशन को बदला जाता है। पैसिव अटैक में इनफार्मेशन को सिर्फ देखा जा सकता है उसे बदला नहीं जा सकता।
2. एक्टिव अटैक हमरे सिस्टम और डेटा दोनों के लिए खतरनाक है। Confidentiality के लिए पैसिव अटैक काफी खतरनाक है।
4. एक्टिव अटैक के कारण सिस्टम हमेशा क्षतिग्रस्त हो जाती है। पैसिव अटैक में हमारे सिस्टम को कोई नुकशान नहीं होता।
5. एक्टिव अटैक में, विक्टिम को हमले के बारे में सूचित किया जाता है।  इसमें विक्टिम को पता नहीं चलता की उसकी इनफार्मेशन कोई अवैध तरिके से पढ़ रहा है।
6. एक्टिव अटैक में, सिस्टम रिसोर्स को बदला जा सकता है। इसमें सिस्टम के रिसोर्स को बदला नहीं जा सकता।
7. एक्टिव अटैक सिस्टम की सेवाओं को प्रभावित करते हैं। इसमें सिर्फ नेटवर्क और सिस्टम के माध्यम से इनफार्मेशन को प्राप्त किया जाता है।
8. Active Attack में, Passive Attack के माध्यम से एकत्रित जानकारी का उपयोग Executing के दौरान किया जाता है। User ID और Password जैसी इनफार्मेशन का पता लगाने के लिए पैसिव अटैक किया जाता है।
9. एक्टिव अटैक को सिस्टम या नेटवर्क में प्रवेश करने से प्रतिबंधित करना कठिन है। Passive Attack की रोकथाम करना थोड़ा सरल है।

Conclusion

इस पोस्ट में हमने जाना Difference Between Active and Passive Attacks in Hindi की Active और Passive attack के बीच में क्या अंतर होता हैं और साथ में हमने Active Attack और Passive Attack क्या होता है इसको भी अच्छे से समझा।

Active और Passive Attack के बीच क्या अंतर है इसको इस बात से भी जाना जा सकता है की उन्हें कैसे किया जाता है और हमरे सिस्टम और संसाधनों के लिए उन्हें कितना नुकसान होता है।

प्रमुख रूप से Active Attack हमारे डाटा और इनफार्मेशन को हमलावर बदल सकता है और हमारे सिस्टम के रिसोर्स को भी नुकसान पहुंचाता है। इसके विपरीत Passive Attack  हमारे सिस्टम के रिसोर्स में कोई बदलाव नहीं करता है और इसलिए इससे हमरे सिस्टम को कोई नुकसान नहीं होता है।

Related Difference 

Difference Between Optical Fibre and Coaxial Cable in Hindi

Difference Between Repeater and Amplifier in Hindi

Difference Between Telnet and FTP in Hindi

Difference Between Static and Dynamic Routing in Hindi

Ravi Girihttps://hinditechacademy.com/
Hi Friends, I'm Ravi Giri Admin of HindiTechAcademy दोस्तों मुझे कंप्यूटर, मोबाइल और इन्टरनेट टेक्नोलॉजी में काफी रूचि है, और इसी से संबधित हर रोज़ एक नयी चीज़ अपने ब्लॉग पर पोस्ट करता रहता हूँ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,566FansLike
823FollowersFollow

Must Read