Difference Between Analog and Digital Signal in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between Analog and Digital Signal in Hindi में जानेंगे की Analog और Digital Signal के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between Analog and Digital Signal in Hindi

Difference Between Analog and Digital Signal in Hindi

Analog और Digital दोनों ही एक प्रकार के Signal के रूप हैं। अगर Signal की बात करे तो इसका उपयोग एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस तक इंफोरमेशन और डेटा को ले जाने के लिए किया जाता है। जहा एक Analog Signal एक निरंतर तरंग है जो एक समय अवधि में बदलती रहती है। वही एक डिजिटल सिग्नल एक सिग्नल है जो किसी भी समय अलग-अलग मूल्यों के अनुक्रम के रूप में डेटा का प्रतिनिधित्व करने के लिए उपयोग किया जाता है।

एनालॉग और डिजिटल सिग्नल के बीच अगर मुख्य अंतर की बात की जाये तो यह है कि एनालॉग सिग्नल को Sine Waves  के द्वारा दर्शाया जाता है जबकि, डिजिटल सिग्नल को स्क्वायर तरंगों (square waves) द्वारा दर्शाया जाता है।

इसके आलावा भी एनालॉग और डिजिटल में बहुत सारे अंतर होते है जिनको हम Difference Chart के माध्यम से नीचे समझेंगे लेकिन उससे पहले हम एनालॉग और डिजिटल के बारे में अच्छे से जानते है।

What is Analog Signal in Hindi-एनालॉग सिंग्नल किसे कहते है।

एनालॉग सिग्नल एक तरह की निरंतर तरंग (continuous wave) होती है जो समय के साथ बदलती  रहती है।  एक simple analog signal एक साइन वेव है जिसे आगे विघटित (Decomposed) नहीं किया जा सकता है। दूसरी ओर, एक composite analog signal को कई साइन तरंगों में और विघटित किया जा सकता है।

इस तरह के सिग्नल भौतिक मूल्यों और प्राकृतिक घटनाओं जैसे भूकंप, आवृत्ति, ज्वालामुखी, हवा की गति, वजन, प्रकाश, आदि के साथ काम करते हैं।

एक एनालॉग सिग्नल को आयाम, अवधि या Frequency और चरण का उपयोग करके वर्णित किया गया है। आयाम सिग्नल की अधिकतम ऊंचाई को चिह्नित करता है। आवृत्ति उस दर को चिह्नित करती है जिस पर सिग्नल बदल रहा है। चरण समय शून्य के संबंध में लहर की स्थिति को चिह्नित करता है।

Analog Signal की विशेषताएं

एनालॉग सिग्नल की कुछ मुख्य आवश्यक विशेषताएँ इस प्रकर हैं

  • इस प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल समय-भिन्न होते हैं।
  • न्यूनतम और अधिकतम मूल्य जो या तो सकारात्मक या नकारात्मक हैं।
  • यह या तो आवधिक या गैर-आवधिक हो सकता है।
  • एनालॉग सिग्नल निरंतर डेटा पर काम करता है।
  • डिजिटल सिग्नल की तुलना में एनालॉग सिग्नल की सटीकता अधिक नहीं होती है।
  • यह आपको प्राकृतिक या भौतिक मूल्यों को मापने में मदद करता है।
  • एनालॉग सिग्नल आउटपुट फॉर्म कर्व, लाइन या ग्राफ़ की तरह है, इसलिए यह सभी के लिए सार्थक नहीं हो सकता है।

Analog Signals के लाभ

एनालॉग सिग्नल के कुछ मुख्य लाभ इस प्रकार है।

  • प्रोसेसिंग में आसान।
  • ऑडियो और वीडियो ट्रांसमिशन के लिए सबसे उपयुक्त।
  • इसकी लागत कम है और यह पोर्टेबल है।
  • इसमें बहुत अधिक घनत्व है ताकि यह अधिक परिष्कृत जानकारी प्रस्तुत कर सके।
  • नया ग्राफिक्स बोर्ड खरीदने के लिए आवश्यक नहीं है।
  • डिजिटल ध्वनियों की तुलना में कम बैंडविड्थ का उपयोग करता है
  • एक ध्वनि का अधिक सटीक प्रतिनिधित्व प्रदान करें
  • यह एक ध्वनि का प्राकृतिक रूप है।

 Analog Signals से हानि

एनालॉग सिग्नल में के इस्तेमाल से कुछ हनिया भी होती है जो इस प्रकार है।

  • एनालॉग में डिजिटल सिंग्नल की तुलना में कम गुणवत्ता वाले सिन्नल होते है।
  • केबल बाहरी प्रभावों के प्रति संवेदनशील हैं।
  • एनालॉग तार की लागत अधिक होती है और यह आसानी से पोर्टेबल नहीं है।
  • एनालॉग साउंड को सिंक्रोनाइज़ करना काफी मुश्किल है
  • गुणवत्ता आसानी से खो जाती है
  • इसमें डेटा Corrupt हो सकता है।

What is Digital Signal in Hindi-डिजिटल सिंग्नल किसे कहते है।

डिजिटल सिग्नल भी एनालॉग सिग्नल की तरह इनफार्मेशन को ट्रांसमिट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है लेकिन यह एनालॉग सिग्नल से अलग होता है।  डिजिटल सिग्नल नॉन-कॉन्टिनेंट, Discrete Time सिग्नल है। डिजिटल सिग्नल बाइनरी फॉर्म में सूचना या डेटा को ले जाता है यानी डिजिटल सिग्नल बिट्स के रूप में इनफार्मेशन को रिप्रेजेंट करता है।

डिजिटल सिग्नल को Simple Sine Wave में विघटित किया जा सकता है जिन्हें हार्मोनिक्स कहा जाता है। प्रत्येक Simple Wave में विभिन्न आयाम, आवृत्ति और चरण होते हैं। Bit Rate और Bit Interval के साथ डिजिटल सिग्नल का वर्णन किया गया है। बिट अंतराल एक एकल बिट भेजने के लिए आवश्यक समय का वर्णन करता है। दूसरी ओर, बिट दर बिट अंतराल की आवृत्ति का वर्णन करता है।

Digital Signals की विशेषताएं

Here, are essential characteristics of Digital signals

  • डिजिटल सिग्नल continuous signals होता हैं
  • इस प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक एल सिग्नलों को एनालॉग सिग्नल की तुलना में बेहतर तरीके से संसाधित और ट्रांसमिट किया जा सकता है।
  • डिजिटल सिग्नल बहुमुखी हैं, इसलिए इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।
  • डिजिटल सिग्नल की सटीकता एनालॉग सिग्नल की तुलना में बेहतर है।

Digital Signals के लाभ

डिजिटल सिग्नल को इस्तेमाल करने से होने वाले लाभ निम्नलिखित है

  • डिजिटल डेटा को आसानी से Compressed किया जा सकता है।
  • डिजिटल रूप में किसी भी जानकारी को एन्क्रिप्ट किया जा सकता है।
  • डिजिटल सिग्नल का उपयोग करने वाले उपकरण अधिक सामान्य और कम खर्चीले होते हैं।
  • आप ओरिजिनल कॉपी को बदले बिना साउंड को  एडिट कर सकते हैं
  • नेटवर्क पर डेटा को ट्रांसमिट करना आसान हैं।

Difference Between Analog and Digital Signal in Hindi

अभी तक ऊपर हमने जाना की Analog और Digital Signal किसे कहते है? अगर आपने ऊपर दी गयी सारी बाते ध्यान से पढ़ी है तो आपको Analog और Digital Signal के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा ।

अगर आपको अब भी Analog और Digital Signal में कोई confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

BASIS FOR COMPARISON ANALOG SIGNAL DIGITAL SIGNAL
Basic एनालॉग सिग्नल एक निरंतर तरंग है जो एक समय अवधि में बदलती है। एक डिजिटल सिग्नल एक Discrete Wave है जो बाइनरी फॉर्म में जानकारी लेती है।
Representation एनालॉग सिग्नल को साइन वेव द्वारा दर्शाया जाता है। एक डिजिटल सिग्नल को स्क्वायर तरंगों द्वारा दर्शाया जाता है।
Description एक एनालॉग सिग्नल को आयाम, अवधि या Frequency और चरण द्वारा वर्णित किया जाता है। बिट दर और बिट अंतराल द्वारा एक डिजिटल सिग्नल का वर्णन किया जाता है।
Range एनालॉग सिग्नल की कोई निश्चित सीमा नहीं है। डिजिटल सिग्नल की एक परिमित संख्या होती है यानी 0 और 1
Distortion एनालॉग सिग्नल में विकृति होने की संभावना अधिक होती है। डिजीटल सिग्नल से विकृति होने का खतरा कम होता है।
Transmit एक एनालॉग सिग्नल एक तरंग के रूप में डेटा को ट्रांसमिट करता है। एक डिजिटल सिग्नल बाइनरी फॉर्म यानी 0 और 1 में डेटा ले जाता है।
Example मानव की आवाज एक एनालॉग सिग्नल का सबसे अच्छा उदाहरण है। कंप्यूटर में ट्रांसमिशन के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले सिग्नल डिजिटल सिग्नल हैं।

Conclusion

आज के इस पोस्ट में हमने Difference Between Analog and Digital Signal in Hindi की Analog और Digital Signal के बीच में क्या अंतर होता हैं?  इसके बारे में जाना और साथ ही एनालॉग और डिजिटल सिग्नल क्या होता है उसको भी अच्छे से समझा।

डिजिटल सिग्नल आजकल एनालॉग सिग्नल की जगह ले रहा है आज के समय में डिजिटल सिग्नल काफी इस्तेमाल किया जाता है लेकिन फिर भी ऑडियो ट्रांसमिशन के लिए एनालॉग सिग्नल अभी भी सबसे अच्छा माना जाता है।

Related Differences:

Difference Between Bridge and Gateway in Hindi

Difference Between Synchronous and Asynchronous Transmission in Hindi

Difference Between Unicast and Multicast in Hindi

Difference Between FTP and TFTP in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here