Assets और Liabilities के बीच क्या अंतर है?

आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे Assets और Liabilities किसे कहते है और Difference Between Assets and Liabilities in Hindi की Assets और Liabilities  में क्या अंतर है?

Assets और Liabilities के बीच क्या अंतर है?

बिज़नेस और एकाउंटिंग में आपने अक्सर assets और liabilities इन दो शब्दों के बारे में जरूर सुना होगा। Assets को संपत्ति की वस्तुओं के रूप में समझा जा सकता है, जिसका स्वामित्व किसी व्यक्ति या कंपनी के पास होता है। उनके पास एक विशिष्ट मूल्य है और उनका उपयोग debt, commitment और legacies जैसे दायित्वों को पूरा करने के लिए किया जा सकता है।

दूसरी ओर liabilities किसी व्यक्ति या संस्था के दायित्वों को संदर्भित करती हैं, जिन्हें भविष्य में पूरा करने की आवश्यकता होती है।

संक्षेप में, एक asset वह है जो एक कंपनी के पास होता है, जबकि liability वह है जो एक कंपनी का बकाया है। ये दोनों हर व्यवसाय में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, क्योंकि वे बैलेंस शीट की मदद से किसी विशेष तिथि पर उद्यम की समग्र स्थिति तय करते हैं।

Assets और Liabilities में कुछ महत्वपूर्ण अंतर होते है जिनको हम Difference टेबल के माध्यम से नीचे समझेंगे लेकिन उससे पहले हम Assets और Liabilities किसे कहते है इसको और अच्छे से समझ लेते है।

What is Assets in Hindi-Assets क्या होता है?

कंपनी के स्वामित्व वाली किसी भी चीज़ का आर्थिक मूल्य Assets के रूप में जाना जाता है। सरल शब्दों में, Assets वे वस्तुएं हैं जिन्हें नकदी में बदला जा सकता है या कंपनी के लिए शीघ्र ही आय उत्पन्न करता है। यह इकाई के किसी भी ऋण या व्यय का भुगतान करने में सहायक होता है। एकाउंटिंग Assets को दो व्यापक श्रेणियों में विभाजित करता है जो हैं-

Non-Current Assets

  • Tangible Fixed Assets
  • Intangible Fixed Assets
  • Long-term Investments

Current Assets

  • Account Receivable
  • Inventory
  • Investments
  • Cash
  • Prepaid Expenses

What is liability in Hindi-liability क्या होता है?

कंपनी द्वारा किसी अन्य व्यक्ति या संगठन के लिए किसी भी ऋण या दायित्व का आर्थिक मूल्य liability के रूप में जाना जाता है। सरल शब्दों में liability पिछले लेनदेन से उत्पन्न होने वाली जिम्मेदारियां हैं, जिनका भुगतान कंपनी द्वारा जल्द ही इकाई के स्वामित्व वाली संपत्ति के माध्यम से किया जाना है। एकाउंटिंग में liabilities को दो व्यापक श्रेणियों में विभाजित करता है जो हैं-

Non-Current Liability

  • Debentures
  • Long Term Loans

Current Liabilities

  • Short-term Loan
  • Account Payable
  • Bank Overdraft
  • Outstanding expenses

Difference Between Assets and Liabilities in Hindi

अभी तक ऊपर हमने जाना की Assets और Liabilities किसे कहते है अगर आपने ऊपर दी गयी सारी चीजे ध्यान से पढ़ी है तो आपको Assets और Liabilities के बीच क्या अंतर है इसके बारे में अच्छे से पता चल गया होगा।

अगर आपको अब भी Assets और Liabilities क्या होता है और इसमें क्या अंतर है इसको समझने में में कोई कन्फ़्युशन है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

BASIS FOR COMPARISON ASSETS LIABILITIES
Meaning Assets are the property or estate, which a company owns, having monetary value Liabilities refers to the debts, which a company owes to a person or entity.
What is it? These are financial resources which provide future economic benefit. These are the financial obligations, which has to be paid off in future.
Depreciation Depreciable Non-depreciable
Calculation Assets = Liabilities + Owner’s Equity Liabilities = Assets – Owner’s Equity
Position in Balance Sheet Right Left
Types Current Assets, Non-Current Assets. Current Liabilities, Non-Current Liabilities.
Example Building, Cash, Goodwill, Account Receivable, Investments etc. Long term borrowings, Bank Overdraft, Account Payable etc.

Key Differences Between Assets and Liabilities

जहां तक ​​संपत्ति और देनदारियों के बीच अंतर का संबंध है, नीचे दिए गए बिंदु पर्याप्त हैं:

  • एकाउंटिंग के संदर्भ में assets वह संपत्ति है जिसे भविष्य में नकदी में बदला जा सकता है, जबकि liabilities वह ऋण है जिसे भविष्य में निपटाना है।
  • Assets वित्तीय संसाधनों को संदर्भित करती है, जो भविष्य में आर्थिक लाभ प्रदान करते हैं। इसके विपरीत, liabilities वे वित्तीय दायित्व हैं, जिन्हें निकट भविष्य में चुकाने की आवश्यकता होती है।
  • Assets मूल्यह्रास (depreciable ) योग्य वस्तुएं हैं, यानी हर साल एक निश्चित प्रतिशत या राशि मूल्यह्रास (depreciation) के रूप में काटी जाती है। इसके विपरीत, liabilities गैर-अवमूल्यन योग्य (non-depreciable) हैं।
  • बैलेंस शीट में, Assets को दाईं ओर दिखाया जाता है, जबकि liabilities को बाईं ओर रखा जाता है।
  • Assets को current और non-current assets  के रूप में वर्गीकृत किया गया है। दूसरी ओर, Liabilities को current और non-current liabilities के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।
  • Assets के उदाहरण भवन, सूची, पेटेंट, फर्नीचर, आदि और देनदारियों के उदाहरण- व्यापार देय, डिबेंचर, बैंक ऋण, ओवरड्राफ्ट, आदि।

Conclusion

आज के इस पोस्ट में हमने जाना की Assets और Liabilities किसे कहते है और Difference Between Assets and Liabilities in Hindi  की Assets और Liabilities में क्या अंतर है।

Ravi Girihttps://hinditechacademy.com/
नमस्कार दोस्तों, मै रवि गिरी Hindi Tech Academy का संस्थापक हूँ, मुझे पढ़ने और लिखने का काफी शौख है और इसीलिए मैंने इस ब्लॉग को बनाया है ताकि हर रोज एक नयी चीज़ के बारे में अपने ब्लॉग पर लिख कर आपके समक्ष रख सकू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,566FansLike
823FollowersFollow

Must Read