Difference Between Circuit switching and Message switching in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between Circuit switching and Message switching in Hindi में जानेंगे की Circuit Switching और Message Switching के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between Circuit switching and Message switching in HindiDifference Between Circuit switching and Message switching in Hindi

कंप्यूटर नेटवर्किंग में सर्किट स्विचिंग और मैसेज स्विचिंग दोनों ही बहुत सारी डिवाइस को डेडिकेटेड रूप से एक साथ कनेक्ट करने के लिए दो अलग तकनीकें हैं।

जब हम नेटवर्क में कई डिवाइस को एक दूसरे से कनेक्ट करते है तो नेटवर्क में one to one कम्युनिकेशन को एस्टेबिलिश करना काफी मुश्किल हो जाता है।  इसके लिए हमें प्रत्येक डिवाइस के प्रत्येक पेअर के बीच एक पॉइंट टू पॉइंट कनेक्शन स्थापित करना पड़ता है।

इसलिए इस समस्या को हल करने के लिए  नेटवर्क स्विचिंग का उपयोग किया जाता है जहां स्विच और नेटवर्किंग डिवाइस की सहायता सेनोड्स की श्रृंखला को आपस में जोड़ा जाता है।

अगर सर्किट स्विचिंग और मैसेज स्विचिंग के बीच के महत्वपूर्ण अंतर की बात की जाये तो यह है कि सर्किट स्विचिंग कम्युनिकेशन में शामिल होने वाली दो डिवाइस के बीच एक डेडिकेटेड फिजिकल कनेक्शन को बनाता है।

दूसरी तरफ, मैसेज स्विचिंग तकनीक सेन्डर और रिसीवर के बीच कम्युनिकेशन को सक्षम करने के लिए एक स्टोर और फॉरवर्ड मैकेनिज्म का उपयोग करती है।

इसके आलावा भी Circuit switching और Message switching में कुछ और महत्वपूर्ण अंतर पाए जाते है जिनको हम Difference Table के माध्यम से नीचे जानेंगे लेकिन उससे पहले हम सर्किट स्विचिंग और मैसेज स्विचिंग किसे कहते है इसको और अच्छे से समझ लेते है।

What is Circuit Switching in Hindi-सर्किट स्विचिंग किसे कहते है?

सर्किट स्विचिंग एक ऐसी स्विचिंग तकनीक है जिसमें दो नोड्स के बीच एक सीधा टारगेटेड कम्युनिकेशन लिंक स्थापित किया जाता है। इसमें कम्युनिकेशन रूट का निर्माण नेटवर्क नोड्स के बीच लिंक की एक श्रृंखला को जोड़कर किया गया है।

फिजिकल रूप से लिंक में कनेक्शन के लिए एक वर्चुअल लॉजिकल चैनल होता है। आमतौर पर सर्किट स्विचिंग का इस्तेमाल मुख्य रूप से टेलीफोन में लागू की जाती है, जहां कॉल करने के बाद स्विचिंग डिवाइस कॉल करने वाले के पते से लेकर रिसीवर के टेलीफोन तक एक फिजिकल मार्ग की खोज करता है।

इस प्रक्रिया को करने के लिए तीन कार्यों को निष्पादित किया जाता है।

Circuit establishment: डेटा के प्रसारण से पहले नोड्स के बीच एंड-टू-एंड कनेक्शन स्थापित किया जाता है।

Data transfer: डेटा आमतौर पर प्रेषक से रिसीवर तक full-duplex mode में स्थानांतरित किया जाता है।

Circuit disconnect: जब डेटा ट्रांसफर पूरा हो जाता है तो कनेक्शन को टर्मिनेट कर दिया जाता है और लगे हुए संसाधनों को हटा दिया जाता है।

What is Message Switching in Hindi-मैसेज स्विचिंग किसे कहते है?

मैसेज स्विचिंग के काम करने का तरीका सर्किट स्विचिंग से अलग है। मैसेज स्विचिंग में पहले मैसेज को स्टोर किया जाता है और उसके बाद उन मैसेज को डेडिकेटेड रिसीवर के पास ट्रांसमिट कर दिया जाता है। मैसेज स्विचिंग में किसी भी तरह के डेडिकेटेड रूट की आवश्कयता नहीं है।

मैसेज स्विचिंग में मेथड में सोर्स द्वारा सेंड किये गए मैसेज को एक ऑपरेटर के द्वारा कलेक्ट किया जाता है, ऑपरेटर संदेश को इंटरमीडिएट नोड्स में प्रसारित करता है जबकि इस बारे में कोई जानकारी न होने पर कि क्या मैसेज के लिए रास्ता खाली है या नहीं

इसमें मैसेज नोड से नोड में ट्रांसमिट होता है और आगे नोड लिंक उपलब्ध नहीं होने पर नोड में संग्रहीत किया जाता है। लिंक उपलब्ध होने के बाद, मैसेज अगले नोड को भेजा जाता है।

इसके हर एक मैसेज में सोर्स और डेस्टिनेशन का पूरा पता होता है। मैसेज स्विचिंग तकनीक भी देरी पैदा करती है, क्योंकि यह हर मैसेज को नोड में स्टोरकरने के लिए बनाता है जब तक कि यह आगे के नोड का लिंक नहीं मिलता है। यद्यपि इसमें होने वाली देरी एक तरह से सहनीय है और ट्रांसमिशन मीडिया का प्रभावी ढंग से उपयोग करने में लाभदायक है।

Difference between Circuit switching and Message switching:

अभी तक ऊपर हमने जाना की Circuit switching और Message switching किसे कहते है अगर आपने ऊपर दी गयी सारी चीजे ध्यान से पढ़ी है तो आपको Circuit switching और Message switching के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा।

अगर आपको अब भी Circuit switching और Message switching क्या होता है और इसमें क्या अंतर है इसको समझने में में कोई Confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

S.NO CIRCUIT SWITCHING MESSAGE SWITCHING
1. सर्किट स्विचिंग दो डिवाइस  के बीच एक फिजिकल रूट को निर्धारित करके किया जाता है। मैसेज स्विचिंग में, डेटा को पहले एक नोड द्वारा स्टोर किया जाता है और फिर किसी अन्य सिस्टम में डेटा को ट्रांसफर करने के लिए दूसरे नोड को फॉरवर्ड किया जाता है।
2. सर्किट स्विचिंग में, डेटा स्टोर नहीं होता है। मैसेज स्विचिंग में, डेटा पहले संग्रहीत किया जाता है, फिर अगले नोड पर भेजा जाता है।
3. सर्किट स्विचिंग को डेडिकेटेड फिजिकल रूट की आवश्यकता होती है। मैसेज स्विचिंग को डेडिकेटेड भौतिक रूट की आवश्यकता नहीं है।
4. सर्किट स्विचिंग एक Geographical addressing है। मैसेज स्विचिंग एक  Hierarchical addressing है।
5. सर्किट स्विचिंग मैसेज स्विचिंग की तुलना में महंगा है। मैसेज स्विचिंग की लागत सर्किट स्विचिंग से कम है।
6. सर्किट स्विचिंग रूटिंग मैन्युअल टाइपिंग रूटिंग है। मैसेज स्विचिंग रूटिंग मैनुअल टाइपिंग रूटिंग नहीं है।
7. सर्किट स्विचिंग पूरी बैंडविड्थ को पहले से सुरक्षित रखता है। मैसेज स्विचिंग पूरे बैंडविड्थ को पहले से आरक्षित नहीं करता है।
8. सर्किट स्विचिंग में, चार्ज समय और दूरी पर निर्भर करता है। मैसेज स्विचिंग में, चार्ज बाइट्स और दूरी की संख्या पर आधारित है।
9. सर्किट स्विचिंग में प्रति मिनट के लिए कंजेशन होता है। मैसेज स्विचिंग में no congestion या less congestion होता है।

Conclusion

आज के इस पोस्ट में हमने जाना Difference Between Circuit switching and Message switching in Hindi की Circuit Switching और Message Switching के बीच में क्या अंतर होता हैं और साथ में हमने Circuit Switching और Message Switching किसे कहते है इसके बारे में भी अच्छे से जाना।

Related Differences:

Difference Between Circuit Switching and Packet Switching in Hindi.

Difference Between Star and Mesh Topology in Hindi

Difference Between Point-to-point and Multipoint Connection in Hindi

Difference Between Broadcast and Multicast in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here