Compiler और Assembler में क्या अंतर है?

इस पोस्ट में हम Difference Between Compiler and Assembler in Hindi में जानेंगे की Compiler और Assembler में क्या अंतर है?

Compiler और Assembler में क्या अंतर है?Compiler और Assembler में क्या अंतर है?

कम्पाइलर और असेंबलर एक Program के Execution में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कुछ कम्पाइलर सीधे Assembly code के बजाय Execution Code उत्पन्न करते हैं। कम्पाइलर Preprocessed सोर्स कोड लेता है और इसे असेंबली कोड में अनुवाद करता है। असेम्बलर असेंबली कोड को कंपाइलर से लेता है और इसे Relocatable मशीन कोड में ट्रांसलेट करता है।

आज की इस पोस्ट में हम पहले Compiler और Assembler किसे कहते है इसके बारे में जानेगे और उसके बाद Compiler और Assembler में क्या अंतर है इसको डिफ्रेंस टेबल के माध्यम से नीचे समझेंगे।

What is Compiler in Hindi-कम्पाइलर किसे कहते है?

एक कंपाइलर मुख्य रूप से प्रोग्राम के लिए उपयोग किया जाता है जो एक उच्च-स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा से मशीन स्तर की भाषा के सोर्स कोड का अनुवाद करने के लिए एक निष्पादन योग्य प्रोग्राम बनाता है।

एक कंपाइलर पूरे प्रोग्राम को एक पूरे कोड के रूप में मानेगा और फिर अनुवाद करेगा।कम्पाइलर का मुख्य काम यह है कि यह सभी प्रकार की limits, ranges और Errors आदि की जांच करता है।

इससे पहले कि कम्पाइलर कोड को सफलतापूर्वक निष्पादित कर सके Error को सोर्स  कोड से हटा दिया जाना चाहिए। कम्पाइलर लैंग्वेज का उदाहरण है C, C ++, Java, C #, आदि।

What is Assembler in Hindi-असेम्बलर किसे कहते है?

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में असेंबली भाषा एक निम्न-स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा होती है।  असेंबलर असेंबली कोड के इनपुट के रूप में लेता है और इसे Relocatable मशीन कोड में ट्रांसलेट करता है। असेंबलर प्रत्येक निर्देश की जाँच करता है और एक diagnostic message उत्पन्न करता है।

कम्पाइलर और असेम्बलर में क्या अंतर है?

अभी तक ऊपर हमने जाना की Compiler और Assembler किसे कहते है अगर आपने ऊपर दी गयी सारी चीजे ध्यान से पढ़ी है तो आपको Compiler और Assembler के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा।

अगर आपको अब भी Compiler और Assembler क्या होता है और इसमें क्या अंतर है इसको समझने में में कोई Confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

COMPILER ASSEMBLER
कंपाइलर प्रोग्रामर द्वारा लिखे गए सोर्स कोड को मशीन लेवल लैंग्वेज में कनवर्ट करता है। असेंबलर असेंबली कोड को मशीन कोड में परिवर्तित करता है।
संकलक इनपुट स्रोत कोड। असेंबलर इनपुट असेंबली लैंग्वेज कोड।
यह एक बार में पूरे कोड को मशीनी लैंग्वेज में बदल देता है। लेकिन असेंबलर एक बार में ऐसा नहीं कर सकता है।
एक कंपाइलर असेंबलर की तुलना में अधिक इंटेलीजेंट होता है। लेकिन, एक असेंबलर एक कंपाइलर की तुलना में कम इंटेलीजेंट होता है।
compilation phases में लेक्सिकल एनालाइज़र, सिंटैक्स एनालाइज़र, सिमेंटिक एनालाइज़र, कोड जनरेटर और एरर हैंडलर हैं। असेंबलर दिए गए इनपुट पर दो चरण बनाता है, पहला चरण और दूसरा चरण।
कंपाइलर का आउटपुट मशीन कोड का एक छोटा संस्करण है। असेंबलर का आउटपुट बाइनरी कोड होता है।
C, C++, Java और C# यह कम्पाइलर लैंग्वेज के उदाहरण है। GAS, GNU असेंबलर का एक उदाहरण है।

Conclusion

Assembler की आवश्यकता नहीं हो सकती है क्योंकि कुछ Compliers सीधे executable code को Generate करते हैं। यदि Assembler का उपयोग किया जाता है, तो इसे source code में उपयोग किए जाने वाले सभी लाइब्रेरी को लाइब्रेरी फ़ंक्शंस से लिंक करने के लिए लिंकर की आवश्यकता होती है।

Related Differences:

Supercomputer और Mainframe Computer में क्या अंतर है?

Primary और Secondary Memory में क्या अंतर है?

Loosely Coupled और Tightly Coupled Multiprocessor System में क्या अंतर है?

Magnetic Tape और Magnetic Disk में क्या अंतर है?

Multiprocessing और Multithreading में क्या अंतर है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here