DOS और Windows में क्या अंतर है?

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between DOS and Windows in Hindi में जानेंगे की DOS और Windows में क्या अंतर है?

DOS और Windows में क्या अंतर है?DOS और Windows में क्या अंतर है?

DOS और Windows दो विभिन्न प्रकार के कम्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम हैं अब DOS वर्तमान समय में बहुत ही कम उपयोग किया जाता है जबकि Windows एक व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है।

DOS और Windows के बीच के अगर अंतर की बात की जाये तो ऑपरेटिंग सिस्टम, डॉस और विंडोज एक दूसरे से काफी भिन्न हैं। DOS 1979 एक एकल टास्किंग, एकल उपयोगकर्ता, सीएलआई आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम विकसित हुआ है। दूसरी ओर, सभी विंडोज़ संस्करण मल्टीटास्किंग, मल्टीटास्कर और जीयूआई आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम हैं।

इसके आलावा भी DOS और Windows के बीच काफी अंतर पाए जाते है जिनको हम Difference Table की मदद से नीचे जानेंगे लेकिन उससे पहले हम DOS और Windows किसे कहते है इसको और अच्छे से जान लेते है।

What is DOS in Hindi- डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम किसे कहते है?

DOS का मतलब है डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम यह एक सिंगल-टास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसका मतलब है कि एक समय में सिस्टम में केवल एक ही प्रोग्राम चल सकता है।  MS-DOS प्रोग्राम को चलाने के लिए एक सरल विधि का उपयोग किया जाता है। किसी विशेष प्रक्रिया के निष्पादन के दौरान कोई नई प्रक्रिया उत्पन्न नहीं होती है।

DOS पर सारे काम कमांड के द्वारा होते है क्योकि यह एक कमांड लाइन इंटरफेस ऑपरेटिंग सिस्टम है, जहां हमें कमांड के रूप में कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए किसी भी कार्य को पूरा करने की आवश्यकता होती है। यह मूल रूप से हार्ड डिस्क ड्राइव या किसी भी डिस्क स्टोरेज डिवाइस जैसे फ्लॉपी डिस्क या ऑप्टिकल से चलता है और कार्यक्रमों के निष्पादन के लिए एक वातावरण प्रदान करता है।

Features of MS-DOS

  • Creation, deletion and copying of files.
  • Floppy disk formatting.
  • Virus detection.
  • Displays the information on the monitor.
  • Listing of the files.

विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है?

Windows ऑपरेटिंग सिस्टम एक माइक्रोसॉफ्ट का प्रोडक्ट है, विंडोज के विभिन्न Version हैं जैसे कि विंडोज 2000, विंडोज एनटी, विंडोज एक्सपी, विंडोज विस्टा, विंडोज 7, विंडोज 8 और विंडोज 10. विंडोज ओएस को विश्वसनीयता, संगतता, प्रदर्शन, एक्स्टेंसिबिलिटी जैसी सुविधाओं के लिए बनाया गया है।

यह जीयूआई (ग्राफिकल यूजर इंटरफेस) आधारित है यह काफी यूजर फ्रेंडली है क्योकि इसका इस्तेमाल करना काफी आसान है जहां मैन्युअल रूप से कमांड लिखने के बजाय, हम माउस की मदद से निर्देश देने के लिए आइकन उपयोग करते हैं।

विंडोज़ पोर्टेबल है, जिसे शुरू में C और C ++ कंप्यूटर प्रोगरामिंग भाषाओं में लिखा गया था, जहां प्रोसेसर के विश्वसनीय कोड को डायनेमिक लिंक लाइब्रेरी (DLL) में अलग किया जाता है, जिसे हार्डवेयर एब्स्ट्रक्शन लेयर (HAL) के रूप में जाना जाता है।

विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम ऑपरेटिंग सिस्टम संसाधनों के लिए वर्चुअल मेमोरी और सॉफ्टवेयर सुरक्षा तंत्र के लिए हार्डवेयर सुरक्षा की मदद से सिस्टम को दोषों और हमलों से बचा सकता है। यह एक NTFS फाइल सिस्टम को नियोजित करता है जो सिस्टम क्रैश के बाद विभिन्न प्रकार की फाइल सिस्टम त्रुटियों से आसानी से उबर सकता है।

DOS और Windows ऑपरेटिंग सिस्टम में क्या अंतर है?

अभी तक ऊपर हमने जाना की DOS और Windows किसे कहते है अगर आपने ऊपर दी गयी सारी चीजे ध्यान से पढ़ी है तो आपको DOS और Windows के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा।

अगर आपको अब भी DOS और Windows क्या होता है और इसमें क्या अंतर है इसको समझने में में कोई Confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

S.NO DOS WINDOW
1. DOS सिंगल टास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम है। विंडोज़ मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम हैं।
2. यह बहुत ही काम पावर को Consume करता है। विंडोज अधिक पावर को consume करता है।
3. विंडोज़ की तुलना में DOS कम मेमोरी का उपभोग करता है।  विंडोज अधिक मेमोरी का उपयोग करता है।
4. DOS नेटवर्किंग का समर्थन नहीं करता है। जबकि विंडो नेटवर्किंग का समर्थन करती है।
5. उपयोग करने के मामले में डॉस काफी जटिल है। विंडोस ऑपरेटिंग सिस्टम को इस्तेमाल करना काफी आसान है।
6. डॉस समय साझा नहीं करता है। जबकि विंडो OS समय साझा करता है।
7. DOS एक कमांड लाइन ऑपरेटिंग सिस्टम है। जबकि विंडोज़ ग्राफ़िकल ऑपरेटिंग सिस्टम हैं।
8. डॉस ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज OS की तुलना में कम पसंद किया जाता है। जबकि DOS की तुलना में विंडोज़ उपयोगकर्ताओं द्वारा अधिक पसंद की जाती है।
9. DOS ऑपरेटिंग सिस्टम में मल्टीमीडिया का समर्थन नहीं किया जाता है जैसे: गेम्स, मूवी, गाने आदि। जबकि विंडोज़ मल्टीमीडिया का समर्थन करती हैं जैसे: गेम, फिल्में, सांग आदि।
10. डॉस ऑपरेटिंग सिस्टम में, विंडोज़ ओएस की तुलना में तेजी से संचालन किया जाता है। विंडोज में DOS की तुलना में स्लो संचालन किया जाता है।
11. DOS में एक समय में केवल एक विंडो खुल सकती है। विंडोज़ में एक बार में कई विंडो खोली जा सकती हैं।
12. डॉस को किसी भी पॉइंटिंग डिवाइस की आवश्यकता नहीं है। विंडोज विभिन्न पॉइंटिंग डिवाइस जैसे लाइट पेन, माउस इत्यादि का उपयोग करता है।
13. DOS का अब व्यापक रूप से कंप्यूटर सिस्टम में उपयोग नहीं किया जाता है। कंप्यूटर सिस्टम में आजकल विंडोज का इस्तेमाल किया जाता है।
14. DOS बिल्कुल फ्री होता है। ओरिजिनल विंडोज OS  काफी महंगा है।

Conclusion

आज के इस पोस्ट में हमने जाना की Difference Between DOS and Windows in Hindi की DOS और Windows में क्या अंतर होता है इसके साथ ही DOS और Windows ऑपरेटिंग सिस्टम किसे कहते है इसको भी हमने अच्छे से समझा।

DOS (डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम) का उपयोग पहले किया जाता था लेकिन वर्तमान में यह पुराना है और कम इस्तेमाल किया जाता है। DOS के बाद विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को डेवलप्ड किया गया था जो पुराने के साथ कई नई सुविधाओं के साथ बनाया गया था।

विंडोज़ 1.0 ने डॉस के साथ बैकवर्ड कम्पैटिबिलिटी प्रदान की, साथ ही ग्राफिकल यूजर इंटरफेस, मल्टीप्रोग्रामिंग, मल्टीटास्किंग और मल्टीसियर सिस्टम जैसी नई सुविधाओं को पेश किया।

Related Difference 

SSD और HDD में क्या अंतर है?

CD और DVD में क्या अंतर है?

Multiprogramming और Multitasking में क्या अंतर है?

File और Folder में क्या अंतर है?

Cold Booting और Warm Booting में क्या अंतर है?

Ravi Girihttps://hinditechacademy.com/
Hi Friends, I'm Ravi Giri Admin of HindiTechAcademy दोस्तों मुझे कंप्यूटर, मोबाइल और इन्टरनेट टेक्नोलॉजी में काफी रूचि है, और इसी से संबधित हर रोज़ एक नयी चीज़ अपने ब्लॉग पर पोस्ट करता रहता हूँ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,566FansLike
823FollowersFollow

Must Read