Difference Between Flow Control and Error Control in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between Flow Control and Error Control in Hindi में जानेंगे की Flow Control और Error Control के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between Flow Control and Error Control in Hindi

Difference Between Flow Control and Error Control in Hindi

Flow Control और Error Control दोनों ही Data Link Layer और Transport Layer पर Data Control mechanism का काम करते हैं। जब भी Sender रिसीवर को डेटा भेजता है तो यह दोनों मैकेनिज़्म रिसीवर को विश्वसनीय डेटा देने में मदद करते हैं।

Flow Control और Error Control के बीच अगर मुख्य अंतर की बात की जाये तो यह है की Flow Control सेन्डर से रिसीवर तक डेटा के उचित प्रवाह को देखता है दूसरी ओर, Error Control यह देखता है कि रिसीवर को दिया गया Error Free और विश्वसनीय है।

Flow Control और Error Control के बीच और भी बहुत सारे अंतर है जिनको हम Difference चार्ट के माध्यम से आगे जानेगे। लेकिन उससे पहले हम Flow Control और Error Control को अच्छे से जानेगे।

What is Flow Control in Hindi- Flow Control क्या है?

Data Communication के क्षेत्र में Flow Control दो Nods के बीच डाटा Transmission की दर को मैनेज करने की प्रकिया हैं। Flow Control के Issues को ट्रांसपोर्ट लेयर के साथ डेटा लिंक लेयर द्वारा हैंडल किया जाता है। Flow Control Mechanism का मुख्य फोकस faster-transmitting sender द्वारा भेजे गए डेटा को overloaded होने से रोकना है।

यदि कोई Sender  शक्तिशाली मशीन पर है और यह डेटा को तेज दर पर ट्रांसमिट कर रहा है, भले ही Transmitted डेटा Error Free हो, तो यह हो सकता है कि रिसीवर उसी स्पीड में डाटा को रिसीव करने में असमर्थ हो और वह कुछ डाटा खो रहा हो।

Flow Control सेन्डर यह को बताता है कि रिसीवर को कितना डेटा भेजा जाना चाहिए ताकि वह उस डाटा को बिना खोये उसे आसानी से रिसीव कर सके। यह mechanism  डाटा सेन्डर को तब तक Next Data Packet डेटा को भेजने से  रोकता है जब तक पहले  का डाटा रिसीव न कर ले और और इसकी जानकारी यह एक Acnowladge मैसेज  के माध्यम से सेन्डर को बताता हैं । डेटा के Flow को कण्ट्रोल  करने के दो तरीके हैं Stop and Wait Protocol और Sliding Window Protocol

What is Error Control in Hindi-Error Control क्या है?

सेन्डर से रिसीवर को डेटा भेजते समय इस बात की बहुत अधिक संभावना होती है कि डेटा Lost या Corrupted हो सकता है। Error एक Situation है और तब आती है जब Sender का डेटा रिसीवर के अंत में डेटा से मेल नहीं खाता है। जब एक Error का पता लग जाता है तो हमें उस डेटा को फिर से रिसीवर को दोबारा ट्रांसमिट करना पड़ता है।

Error Control की प्रक्रिया डेटा लिंक लेयर पर होती है और इस प्रकिया से Data Transmission के दौरान Lost Packet य Corrupt हुए Data पैकेट को Detect करके उसे दोबारा से ट्रांसमिट किया जाता है। ट्रांसपोर्ट लेयर और डेटा लिंक लेयर दोनों पर Error detection और correction होता है।

Types of error

Single bit Error: जब Sender के केवल एक बिट डेटा में परिवर्तन होता है तो इसे Single Bit Error कहा जाता है।

Burst Error: जब Sender के डेटा के दो या अधिक बिट्स में कोई परिवर्तन होता है तो इसे Burst Error कहा जाता है।

Phases in Error Control

Error Detection: सबसे पहले, हमें रिसीवर के अंत में पता लगाना होगा कि प्राप्त डेटा में त्रुटि है या नहीं।

Acknowledgement: यदि किसी त्रुटि का पता चलता है, तो रिसीवर Sender को एक negative acknowledgement (NACK) भेजता है।

Retransmission: जब Sender एक Negative Acknowledge Message प्राप्त करता है वह तो डेटा को फिर से भेज देता है।

Difference Between Flow Control and Error Control in Hindi

अभी तक ऊपर हमने जाना की What is Flow Control in Hindi- Flow Control क्या है? What is Error Control in Hindi-Error Control क्या है?

अगर आपने ऊपर दी गयी सारी बाते ध्यान से पढ़ी है तो आपको Flow Control और Error Control के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा ।

अगर आपको अब भी Flow Control और Error Control  में कोई confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

BASIS FOR COMPARISON FLOW CONTROL ERROR CONTROL
Basic Flow control का मतल सेन्डर से रिसीवर तक डेटा के उचित संचरण के लिए फ्लो नियंत्रण से है। Error control का मतलब Sender और Receiver के बीच Error Free Data से ट्रांसमिट करने से है।
Approach Feedback-based flow control और rate-based flow control उचित Flow Control प्राप्त करने के लिए दृष्टिकोण हैं। इसमें डेटा में Error का पता लगाने के लिए Parity checking, Cyclic Redundancy Code (CRC) और checksum जैसे दृष्टिकोण हैं।
Impact यह रिसीवर बफ़र के overrunning से बचाता है और डेटा हानि को रोकता है।  Data में आने वाले Error को Detect करके उन्हें correct करता है।

Conclusion

आज की इस पोस्ट में Difference Between Flow Control and Error Control in Hindi की Flow Control और Error Control के बीच में क्या अंतर होता हैं इसके बारे में हमने जाना और साथ ही Flow Control और Error Control को भी अच्छे से समझा और पाया की दोनों ही Flow Control और Error Control सेन्डर से रिसीवर के बीच पूर्ण और Error Free डेटा को डिलीवर के लिए अपरिहार्य mechanism हैं।

Related Differences:

Difference Between Frame Relay and ATM in Hindi

Difference Between Synchronous and Asynchronous Transmission in Hindi

Difference Between Flow Control and Congestion Control in Hindi

Ravi Girihttps://hinditechacademy.com/
नमस्कार दोस्तों, मै रवि गिरी Hindi Tech Academy का संस्थापक हूँ, मुझे पढ़ने और लिखने का काफी शौख है और इसीलिए मैंने इस ब्लॉग को बनाया है ताकि हर रोज एक नयी चीज़ के बारे में अपने ब्लॉग पर लिख कर आपके समक्ष रख सकू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,566FansLike
823FollowersFollow

Must Read