MPLS और VPN में क्या अंतर है?

आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे MPLS और VPN किसे कहते है और Difference Between MPLS and VPN in Hindi की MPLS और VPN में क्या अंतर है?

MPLS और VPN में क्या अंतर है?MPLS और VPN में क्या अंतर है?

MPLS और VPN कंप्यूटर नेटवर्किंग में उपयोग की जाने वाली प्रमुख  टेक्नोलॉजी हैं। MPLS और VPN दोनों एक दूसरे से काफी अलग है और दोनों के अलग-अलग कार्य हैं।

MPLS और VPN के बीच महत्वपूर्ण अंतर यह है कि MPLS का उपयोग सर्किट-स्विच कनेक्शन की तरह व्यवहार करने वाले लेबल की मदद से पूर्व निर्धारित मार्ग बनाने के लिए किया जाता है, लेकिन यह लेयर 3 के आईपी पैकेट को भी डिलीवर कर सकता है। दूसरी ओर VPN इनफार्मेशन को डिलीवर करने के लिए एक अतिरिक्त सर्वर की मदद से एक सुरक्षित एन्क्रिप्टेड कनेक्शन स्थापित करता है।

इसके अलावा, MPLS एक राउटर को स्विच की तरह काम कर सकता है क्योंकि आईपी पैकेट भेजने का कोई प्रतिबंध नहीं है। यह नॉन-आईपी पैकेट के साथ भी ठीक काम करता है। इसके विपरीत VPN  का  उपयोग उपयोगकर्ता के IP Address को छिपाने और उसकी लोकेशन को बदलने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
MPLS और VPN के मध्य और भी बहुत सारे अंतर है जिनको डिफरेंस टेबल के माध्यम से हम नीचे जानेंगे लेकिन उससे पहले MPLS और VPN किसे कहते है इसको और अच्छे से जान लेते है।

What is MPLS in Hindi-MPLS किसे कहते है?

MPLS का पूरा नाम Multi-protocol Label Switching है। मल्टीप्रोटोकॉल लेबल स्विचिंग टेलीकम्यूनिकेशन  नेटवर्क में एक राउटिंग तकनीक है जो लंबे नेटवर्क एड्रेस के बजाय शॉर्ट पाथ लेबल के आधार पर डेटा को एक नोड से अगले नोड तक निर्देशित करता है, इस प्रकार एक रूटिंग टेबल में जटिल लुकअप से बचती है और ट्रैफ़िक को तेज़ करती है।

मल्टी-प्रोटोकॉल लेबल स्विचिंग एक ऐसी तकनीक है जिसका उपयोग सभी प्रमुख टेलीकॉम कंपनियों के साथ-साथ अन्य कंपनियों द्वारा किया जाता है, जिन्हें डेटा और वॉयस कॉल दोनों के लिए एक स्केलेबल वाइड एरिया नेटवर्क (WAN) की आवश्यकता होती है। इस नेटवर्क की मदद से डेटा के पैकेट अपने गंतव्य तक पहुंचते हैं। यह कई आधुनिक कंपनियों के लिए एक उपयोगी तकनीक है

मल्टीप्रोटोकॉल लेबल स्विचिंग (MPLS) को पहली बार 1990 के दशक में विकसित किया गया था। यह पब्लिक इंटरनेट एक पैकेट से अगले राउटर तक अग्रेषित करता है जब तक कि पैकेट अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच जाता। दूसरी ओर, MPLS पूर्व निर्धारित नेटवर्क Route के साथ पैकेट भेजता है। आदर्श रूप से, परिणाम यह है कि राउटर कम समय बिताते हैं, जहां यह तय किया जाता है कि प्रत्येक पैकेट को आगे कैसे बढ़ाया जाए, और पैकेट हर बार एक ही रास्ता अपनाते हैं।

Advantage of MPLS-MPLS के फायदे

MPLS नेटवर्क के कुछ प्रमुख लाभ निम्नलिखित हैं-

  • प्रत्येक इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर को WAN बनाने के लिए कुछ मात्रा में इंटरवेशन की आवश्यकता होती है। MPLS एक वैकल्पिक रूट पर डेटा भेजकर इसे कम कर देता है जो 50 मिलीसेकंड से कम है और साथ ही साथ एक human error की संभावना को कम करता है।
  • यह Voice over Internet Protocol (VoIP) जैसे समय संवेदनशील यातायात को प्राथमिकता देने में आपकी मदद कर सकता है, जो कई मामलों में काफी उपयोगी है।
  • MPLS आपको वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) में एक और साइट जोड़ने की सुविधा देता है।
  • यह विशेष कनेक्शन Virtual Private LAN Service (VPLS) के रूप में भी कार्य कर सकता है, क्योंकि दो अलग-अलग साइटों के बीच कनेक्शन को देखने से छिपे हुए हॉप्स के साथ कॉन्फ़िगर किया गया है।
  • MPLS आपको एक ही लिंक पर विभिन्न प्रकार के ट्रैफ़िक को ट्रांसमिट करने की अनुमति देता है।

What is VPN in Hindi-VPN किसे कहते है?

VPN का फुलफॉर्म Virtual Private Network होता है। VPN का मुख्य काम पब्लिक नेटवर्क और प्राइवेट नेटवर्क के बीच एन्क्रिप्टेड कनेक्शन प्रदान है । VPN के द्वारा प्राइवेट नेटवर्क की इनफार्मेशन को सुरक्षित रूप से पब्लिक नेटवर्क (इंटरनेट) के द्वारा एक्सेस की जा सकती है।

किसी असुरक्षित वेबसाइट को एक्सेस  करने या असुरक्षित वाई-फाई नेटवर्क पर अपनी पर्सनल इनफार्मेशन को शेयर करने से आपकी पर्सनल और सेंसटिव इनफार्मेशन गलत हांथो में जा सकती है। यही कारण है कि एक Virtual Private Network  को अपनी ऑनलाइन सुरक्षा और गोपनीयता के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

Benefits of a VPN-VPN के फायदे

1. Hides your private information

2. Access region-blocked services like Netflix

3. Provide network scalability

Difference Between MPLS and VPN in Hindi

अभी तक ऊपर हमने जाना की MPLS और VPN किसे कहते है अगर आपने ऊपर दी गयी सारी चीजे ध्यान से पढ़ी है तो आपको MPLS और VPN के बीच क्या अंतर है इसके बारे में अच्छे से पता चल गया होगा।

अगर आपको अब भी MPLS और VPN क्या होता है और इसमें क्या अंतर है इसको समझने में में कोई कन्फ़्युशन है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

BASIS FOR COMPARISON MPLS VPN
Encryption Not required Employs encryption
Technique Multi-point Point-to-point and multi-point
Functions over Layer 2 and layer 3 of OSI All OSI layers
Expense High Low
Configuration and management Done by the service provider Customers are responsible for configuring and provisioning the VPN setup.
Traffic and routing division is controlled by Service provider Customer
Reliability More reliable due to QoS. Reliable for delay-sensitive traffic.
Cloud-based services Available in a limited sense. Wide array of services are available.
Setting of traffic priorities Probable Not possible

Conclusion

आज के इस पोस्ट में हमने जाना MPLS और VPN किसे कहते है और Difference Between MPLS and VPN in Hindi की MPLS और VPN में क्या अंतर है?

MPLS का उपयोग सर्किट-स्विच कनेक्शन की तरह व्यवहार करने वाले लेबल की मदद से पूर्व निर्धारित मार्ग बनाने के लिए किया जाता है जबकि VPN इनफार्मेशन को डिलीवर करने के लिए एक अतिरिक्त सर्वर की मदद से एक सुरक्षित एन्क्रिप्टेड कनेक्शन स्थापित करता है।

Related Differences:

Printer और Scanner में क्या अंतर है?

Monitor और Television में क्या अंतर है?

Hardware और Software में क्या अंतर है?

RGB और CMYK में क्या अंतर है?

Serial और Parallel Port में क्या अंतर है?

Calculator और Computer में क्या अंतर है?

Impact और Non-impact Printers में क्या अंतर है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here