SATA और PATA में क्या अंतर है?

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between SATA and PATA in Hindi में जानेंगे की SATA और PATA में क्या अंतर है?

SATA और PATA में क्या अंतर है?SATA और PATA में क्या अंतर है?

कंप्यूटर में हार्ड डिस्क को मदरबोर्ड से कनेक्ट करने के दो प्रकार हैं PATA  जिसे IDE और SATA के रूप में भी जाना जाता है।  आपने भी  कम्यूटर में इस्तेमाल होने वाले SATA और PATA  का नाम सुना होगा, दोनों एक दूसरे से काफी सिमिलर है लेकिन फिर भी दोनों के बीच काफी अंतर होते है।

SATA और PATA दोनों ATA (Advanced Technology Attachment) के संस्करण हैं जो आंतरिक रूप से होस्ट सिस्टम में स्टोरेज डिवाइस को अटैच करने के लिए फिजिकल, ट्रांसपोर्ट और कमांड प्रोटोकॉल का वर्णन करते हैं।

अगर SATA और PATA के मुख्य अंतर की बात करें तो यह है कि SATA एक नयी तकनीक है जो PATA की तुलना में काफी तेज और  अधिक कुशल और आकार में छोटी है जबकि PATA एक पुरानी तकनीक है जो पहले  सबसे ज्यादा उपयोग की जाती थी।

इसके आलावा भी SATA और PATA में कुछ महत्वपूर्ण अंतर होते है जिनको डिफरेंस टेबल के माध्यम से नीचे समझेंगे लेकिन उससे पहले हम SATA और PATA किसे कहते है इसको और अच्छे से समझ लेते है।

What is PATA in Hindi-Pata किसे कहते हैं?

PATA का मतलब Parallel Advanced Technology Attachment से है, जो कि कप्यूटर के Motherboard से हार्ड डिस्क, ऑप्टिकल ड्राइव जैसे सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस को कनेक्ट करने के लिए उपयोग किया जाने वाला एक बस इंटरफ़ेस है। इसे पहली बार 1986 में Western Digital और  Compaq द्वारा पेश किया गया था।

PATA केबल बहुत ही चौड़ी होती थी इसके दोनों छोर पर 40-पिन के कनेक्टर कनेक्टर लगे होते हैं।  PATA केबल का एक छोर मदरबोर्ड पर आमतौर पर आईडीई चिह्नित पोर्ट में प्लग किया जाता है, और दूसरे छोर को हार्ड डिस्क जैसे स्टोरेज डिवाइस के पीछे प्लग किया जाता है

PATA केबल का सबसे बड़ा नुकसान भी यही था कि यह वास्तव में बहुत चौड़ी है।  इस केबल के माध्यम से हार्ड डिस्क डिवाइस को कनेक्ट करना और कंप्यूटर के अंदर केबल का मैनेज करना बहुत ही कठिन था। PATA केबल की इन्ही कमियों की वजह से इसकी जगह पर SATA केबल का इस्तेमाल किया जाने लगा।

What is SATA in Hindi-SATA किसे कहते है?

SATA का मतलब है Serial Advanced Technology Attachment यह एक बस इंटरफ़ेस है जो हार्ड डिस्क, ऑप्टिकल ड्राइव को कंप्यूटर के Mother Board से जोड़ता है। यह  टेक्नोलॉजी 2001 में पेश की गयी थी।

SATA ने कंप्यूटर हार्डवेयर में एक बड़ा बदलाव लाया क्योकि SATA में   PATA की तुलना में अधिक लाभ हैं जैसे की हाई डेटा ट्रांसफर स्पीड, हॉट स्वैपिंग और इसकी केबल भी PATA की तुलना में कम चौड़ी होती है। SATA के इन्ही Advantages की वजह से इसका इस्तेमाल अधिक किया जाता है।

SATA  में डेटा को ट्रांसफर करने की दर 150 Mbps से शुरू होती हैं जो कि 100 Mbps ATA / 100 ड्राइव से भी तेज है। PATA की अपेक्षा SATA की केबल भी बहुत पतली होती है और SATA केबल एक मीटर तक लंबी हो सकती है, जबकि PATA केबल अधिकतम 40 सेमी। SATA केबल  कंप्यूटर निर्माताओं को अपने कंप्यूटर के आंतरिक लेआउट को डिजाइन करते समय अधिक स्वतंत्रता देता है।

संक्षिप्त में अगर कहे तो SATA केबल PATA केबल की तुलना में एक बेहतर, अधिक कुशल इंटरफ़ेस है। यदि आप एक कंप्यूटर खरीदना चाहते हैं जो आने वाले वर्षों के लिए तेज़ हार्ड ड्राइव का समर्थन करेगा तो आपको SATA केबल वाला ही कंप्यूटर खरीदना चाहिए हलाकि अब PATA केबल के कंप्यूटर अब आते है नहीं है।

SATA और PATA में क्या अंतर है?

अभी तक ऊपर हमने जाना की SATA और PATA किसे कहते है अगर आपने ऊपर दी गयी सारी चीजे ध्यान से पढ़ी है तो आपको SATA और PATA के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा।

अगर आपको अब भी SATA और PATA क्या होता है और इसमें क्या अंतर है इसको समझने में में कोई Confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

SATA           PATA   
1. PATA का फुलफॉर्म Parallel Advanced Technology Attachment हैं। SATA का फुलफॉर्म Serial Advanced Technology Attachment हैं।
2. यह एक 40 pin कनेक्टर होता है। यह एक 7 पिन कनेक्टर है।
3. इसकी कीमत ज्यादा होती है। यह लागत में सस्ता है।
4. PATA की डाटा ट्रांसफर की स्पीड स्लो होती है। डेटा ट्रांसफर की गति अधिक है।
5. PATA बिजली की खपत अधिक करता है। बिजली की खपत कम होती है।
6. केबल का आकार बड़ा होता है। इसकी केबल का आकार छोटा है।
7. इसमें हॉट स्वैपिंग की सुविधा नहीं है। इसमें हॉट स्वैपिंग की सुविधा होती है।
8. बाहरी हार्ड ड्राइव का उपयोग नहीं किया जा सकता है। बाहरी हार्ड ड्राइव का उपयोग किया जा सकता है।

Conclusion

आज के इस पोस्ट में हमने जाना Difference Between SATA and PATA in Hindi की SATA और PATA में क्या अंतर है इसके साथ ही SATA और PATA किसे कहते है इसको भी अच्छे से समझा।

SATA एक नयी तकनीक है जो PATA की तुलना में काफी तेज और अधिक कुशल और आकार में छोटी है जबकि PATA एक पुरानी तकनीक है और इसकी कुछ कमियों की वजह से अब इसका उपयोग भी नहीं किया जाता है।

Related Differences

Multiprocessing और Multithreading में क्या अंतर है?

Virtual और Cache Memory में क्या अंतर है?

Buffering और Caching में क्या अंतर है?

Internal और External fragmentation में क्या अंतर है?

System Software और Application Software में क्या अंतर है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here