Difference Between Serial and Parallel Transmission in Hindi

आज हम Difference Between Serial and Parallel Transmission in Hindi में जानेंगे की Serial और Parallel Transmission के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between Serial and Parallel Transmission in Hindi

Difference Between Serial and Parallel Transmission in Hindi

कंप्यूटर, लैपटॉप के बीच डेटा  को ट्रांसफर करने के लिए दो तरीकों का उपयोग किया जाता है Serial Transmission और Parallel Transmission इन दोनों के बीच कुछ समानताएं और असमानताएं हैं।

अगर Serial Transmission और Parallel Transmission के प्राथमिक अंतर कि बात की जाये तो  सीरियल ट्रांसमिशन में, डेटा को बिट फॉर्म द्वारा भेजा जाता है, जबकि Parallel Transmission में एक बाइट (8 बिट) को एक बार में भेजा जाता है।

Serial Transmission और Parallel Transmission में और भी बहुत सारे अंतर है जिनको हम डिटेल्स में नीचे जानेंगे। लेकिन उससे पहले हम जानेगे की आखिर यह Data Transmission क्या होता हैं।

What is data transmission in Hindi-डाटा ट्रांसमिशन किसे कहते हैं?

डेटा ट्रांसमिशन दो या दो से अधिक digital devices के बीच डेटा को ट्रांसफर करने की प्रक्रिया को संदर्भित करता है। एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस में डेटा को एनालॉग या डिजिटल फॉर्मेट में ट्रांसमिट किया जाता है।

कंप्यूटर के बीच डेटा ट्रांसफर करने के लिए दो तरीकों का उपयोग किया जाता है Serial Transmission और  Parallel Transmission अब हम एक एक करके इनके बारे में जानते हैं।

What is serial transmission in Hindi-सीरियल ट्रांसमिशन क्या होता हैं?

सीरियल ट्रांसमिशन में Data Bit एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में bi-direction में Flow होता है।  सीरियल ट्रांसमिशन एक ट्रांसमिशन का प्रकार है जिसमें डेटा को सोर्स से डेस्टिनेशन पर ट्रांसफर करने के लिए एक सिंगल कम्युनिकेशन लिंक  का उपयोग किया जाता है।

लंबी दूरी तक डेटा ट्रांसफर करने के लिए Serial Data Cable का उपयोग किया जाता है इसमें 9 पिन होती है और इसका कनेक्टर D Shape में होता है  सीरियल ट्रांसमिशन में ट्रांसमिट किया जाने वाला डेटा प्रॉपर आर्डर में होता है।

सीरियल ट्रांसमिशन में भी दो Sub Classes होती है synchronous और asynchronous। asynchronous  Transmission में प्रत्येक बाइट में एक अतिरिक्त बिट जोड़ा जाता है ताकि रिसीवर नए डेटा के आगमन के बारे में सतर्क हो।

Synchronous ट्रांसमिशन में कोई अतिरिक्त Bit नहीं जोड़ा जाता है बल्कि Frame के रूप में ट्रांसफर होने वाले डाटा जिसमें कई बाइट्स होते हैं।

Advantage of Serial transmission 

  • यह cost-effective  होता हैं।
  • यह लंबी दूरी के संचार के लिए उपयुक्त है।
  • यह काफी Reliable भी माना जाता हैं।

Disadvantage of Serial transmission 

  • इसमें Data transmission की धीरे होता हैं।
  • Throughput बिट दर पर निर्भर करता है।

What is parallel transmission in Hindi

Parallel Transmission में कई बिट्स एक साथ एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में ट्रांसफर होती हैं। Parallel Transmission बिट्स को ट्रांसमिट करने के लिए सीरियल ट्रांसमिशन से काफी तेज होता है और Parallel Transmission का उपयोग short distance के लिए किया जाता है।

यह 17 सिग्नल लाइनों और 8 ग्राउंड लाइनों के साथ 25-पिन पोर्ट का उपयोग करता है। 17 सिग्नल लाइनों को निम्नलिखित रूप में विभाजित किया गया हैं

  • 4 lines – initiate handshaking
  • 5 lines – communicate and notify errors
  • 8 lines – transfer data

Advantages of Parallel transmission 

  • डाटा Transmits की speed काफी फ़ास्ट होती हैं।
  • कम दूरी के संचार के लिए बेहतर है।
  • इसमें बिट्स के सेट को एक साथ स्थानांतरित किया जाता है।

Disadvantages of Parallel transmission 

  • यह बहुत ही Costly transmission system होता हैं।
  • लंबी दूरी पर डेटा ट्रांसमिट करने के लिए तार की मोटाई को बढ़ानी होगी।
  • इसमें Multiple communication channels की आवश्यकता होती हैं .

Difference Between Serial and Parallel Transmission in Hindi

अभी तक हमने जाना की डाटा ट्रांसमिशन किसे कहते हैं? और सीरियल ट्रांसमिशन और Parallel Transmission क्या होता हैं? अब हम जानेंगे की  Serial और Parallel Transmission के बीच में क्या अंतर होता हैं?

S.NO SERIAL TRANSMISSION PARALLEL TRANSMISSION
1. Serial transmission में डाटा  bi-direction  में फ्लो होता हैं। Parallel Transmission में डाटा multiple lines में फ्लो होता हैं।
2. सीरियल ट्रांसमिशन Cost efficient होता  है। Parallel Transmission ज़्यादा महंगा होता हैं।
3. सीरियल ट्रांसमिशन में एक clock pulse में एक बिट transferred हो जाता है। Parallel Transmission में एक clock pulse में आठ बिट्स transferred होते हैं।
4. सीरियल ट्रांसमिशन काफी स्लो होता हैं। Parallel Transmission काफी fast होता हैं।
5. आमतौर पर, सीरियल ट्रांसमिशन का उपयोग लंबी दूरी के लिए किया जाता है। Parallel Transmission का इस्तेमाल short distance के लिए किया जाता हैं।
6. सीरियल ट्रांसमिशन में इस्तेमाल किये जाने वाले सर्किट सिंपल होते है। इसमें इस्तेमाल किये जाने वाले सर्किट जटिल  होते है।

Conclusion

आज की इस पोस्ट से हमने सीखा Difference Between Serial and Parallel Transmission in Hind की Serial और Parallel Transmission के बीच में क्या अंतर होता हैं?

हमने जाना की Serial और Parallel Transmission दोनों के अपने फायदे और नुकसान हैं। Parallel Transmission सीमित दूरी के लिए उपयोग किया जाता है और यह High Speed प्रदान करता है। दूसरी ओर, सीरियल ट्रांसमिशन डेटा को लंबी दूरी तक ट्रासंफर करने के लिए काफी reliable है।

Related Differences:

Difference Between Synchronous and Asynchronous Transmission in Hindi

Difference Between Unicast and Multicast in Hindi

Difference Between Bandwidth and Frequency in Hindi

Difference Between Pure ALOHA and Slotted ALOHA in Hindi

Difference Between Flow Control and Error Control in Hindi

Leave a Reply