Difference Between SMTP and POP3 in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between SMTP and POP3 in Hindi में जानेंगे की SMTP और POP3 Protocol के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between SMTP and POP3 in HindiDifference Between SMTP and POP3 in Hindi

जब हम कोई Mail सेंड और रिसीव करते है तो उसके लिए दो चीजों की आवश्यकता होती है एक message transfer agent और दूसरा message access agent मैसेज ट्रासंफर एजेंट क्लाइंट कंप्यूटर से Recipient के मेल सर्वर पर मैसेज को ट्रासंफर करता है।

किसी भी मेल को Send करने के लिए मैसेज ट्रांसफर एजेंट यानी SMTP है का इस्तेमाल होता है और Mail को Receive करने के लिए मैसेज एक्सेस एजेंट यानि की POP और IMAP का इस्तेमाल किया जाता हैं। आज के इस पोस्ट में हम SMTP और POP3 के बीच अंतर को जानेंगे।

SMTP और POP3 के बीच के अगर मूल अंतर की बात की जाये तो यह है कि SMTP  Mail को भेजने के लिए उपयोग किया जाने वाला एक message transfer agent है और POP3 सिर्फ Mail को प्राप्त करने के लिए उपयोग किया जाने वाला एक मैसेज एक्सेस एजेंट है। SMTP और POP3 के बीच कुछ और अंतर हैं जिनके बारे में हम नीचे Difference Table के माध्यम से अच्छे से जानेंगे लेकिन उससे पहले हम SMTP और POP3 को अच्छे से समझ लेते है।

What is SMTP in Hindi- SMTP प्रोटोकॉल किसे कहते है?

SMTP जिसका पूरा नाम Simple Mail Transfer Protocol होता है और इसका उपयोग किसी Local Client से किसी User के Email Address पर Mail सेंड करने के लिए किया जाता है। अगर सीधे शब्दों में कहे तो Simple Mail Transfer Protocol (SMTP) इंटरनेट पर ईमेल को भेजने के लिए एक Standard  प्रोटोकॉल है।

यह प्रोटोकॉल Message Transfer Agent (MTA) नामक सॉफ्टवेयर के साथ-साथ electronic messages को उनके Destination एड्रेस तक ट्रांसफर करने के लिए एक साथ काम करता है।

यह प्रोटोकॉल ईमेल भेजने से पहले सिक्योरिटी के लिए उस Email को स्कैन भी करता है और यह इस बात की लिमिट को भी नियंत्रित करता है कि एक समय सीमा के भीतर एक Account से कितने मैसेज भेज सकता है।

Default SMTP ports:

ईमेल सर्वर से कनेक्शन को Establish करने के लिए SMTP निम्नलिखित Port Numbers का इस्तेमाल करता है।

  • Port 25 – non-encrypted port
  • Port 465 – SSL/TLS port, also known as SMTPS

What is POP3 in Hindi- POP3 प्रोटोकॉल किसे कहते है?

POP3 (Post Office Protocol version 3) एक  one-way incoming mail protocol है जो Email Server से Local मशीन पर Message की Copy को डाउनलोड करता है। एक बार जब पोस्ट ऑफिस प्रोटोकॉल प्रक्रिया पूरी कर लेता है, तो यह सर्वर के इनबॉक्स से ओरिजिनल डेटा को हटा देता है और वह डाटा लोकल मशीन में सेव हो जाता है।

अगर दूसरे शब्दों में कहे तो  POP3 प्रोटोकॉल Emails को Remote Server से लोकल ईमेल क्लाइंट पर Receive करने के लिए एक Standard प्रोटोकॉल है। POP3 आपको अपने लोकल कंप्यूटर पर ईमेल मैसेज को डाउनलोड करने और बिना इंटरनेट के ऑफ़लाइन ही उन्हें एक्सेस करने की अनुमति देता है।

समान्य तौर पर POP3 प्रोटोकॉल का इस्तेमाल तब किया जाता है जब User अपनी ईमेल को एक्सेस करने के लिए केवल एक ही डिवाइस का उपयोग करते हैं और साथ अपनी इमेल्स को ऑफलाइन ही रीड करना चाहते है। यह उन लोगों के लिए भी उपयोगी है जो अपने ऑनलाइन इनबॉक्स के Space को Free रखना चाहते हैं।

इसमें Users के सारे Mails लोकल कंप्यूटर में ही एक PST फाइल में स्टोर होते है और अगर यह फाइल डिलीट हो जाती है तो आपके सारे Mails भी डिलीट हो जायेंगे।

Default POP3 Ports:

ईमेल सर्वर से कनेक्शन को Establish करने के लिए POP3  निम्नलिखित Port Numbers का इस्तेमाल करता है।

  • Port 110 – non-encrypted port
  • Port 995 – SSL/TLS port, also known as POP3S

Difference Between SMTP and POP3 in Hindi

अभी तक ऊपर हमने जाना की SMTP और POP3 किसे कहते है? अगर आपने ऊपर दी गयी सारी बाते ध्यान से पढ़ी है तो आपको SMTP और POP3  के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा ।

अगर आपको अब भी SMTP और POP3 में कोई confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

BASIS FOR COMPARISON SMTP POP3
Basic यह एक message transfer agent होता हो और इसका इस्तेमाल Mail को सेंड करने के लिए किया जाता है। यह एक message access agent होता है और इसका इस्तेमाल Mails को Remote सर्वर से लोकल मशीन में रिसीव करने के लिए किया जाता है।
Full form Simple Mail Transfer Protocol. Post Office Protocol version 3.
Implied यह Sender  औरसेन्डर मेल सर्वर के बीच और सेन्डर मेल सर्वर और रिसीवर मेल सर्वर के बीच इम्प्लीमेंट किया जाता है। यह रिसीवर और रिसीवर मेल सर्वर के बीच इम्प्लीमेंट किया जाता है।
work यह Sender के कंप्यूटर से मेल को रिसीवर के मेल सर्वर पर मौजूद मेल बॉक्स में ट्रांसफर करता है। यह Mails को Users के लोकल System में डाउनलोड करता है और वह उनको ऑफलाइन ही पढ़ सकते है।

Conclusion

आज की इस पोस्ट में हमने Difference Between SMTP and POP3 in Hindi की SMTP और POP3 Protocol के बीच में क्या अंतर होता हैं इसके बारे में जाना और साथ ही साथ SMTP और POP3 Protocol को भी अच्छे से समझा।

SMTP एक प्रोटोकॉल है जो Message Transfer Agent के कार्य को परिभाषित करता है। इसका इस्तेमाल सेन्डर की डिवाइस से मेल्स को Send करने के लिए किया जाता है। जबकि POP3 एक Pull protocol और इसका इस्तेमाल Mails को लोकल मशीन पर Receive  करने के लिए किया जाता है।

Related Difference 

Difference Between POP3 and IMAP in Hindi

Difference Between Broadcast and Multicast in Hindi

Difference Between FTP and SFTP in Hindi

Difference Between Bridge and Switch in Hindi

Ravi Girihttps://hinditechacademy.com/
Hi Friends, I'm Ravi Giri Admin of HindiTechAcademy दोस्तों मुझे कंप्यूटर, मोबाइल और इन्टरनेट टेक्नोलॉजी में काफी रूचि है, और इसी से संबधित हर रोज़ एक नयी चीज़ अपने ब्लॉग पर पोस्ट करता रहता हूँ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,566FansLike
823FollowersFollow

Must Read