Difference Between Symmetric and Asymmetric Encryption in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between Symmetric and Asymmetric Encryption in Hindi में जानेंगे की Symmetric और Asymmetric Encryption के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between Symmetric and Asymmetric Encryption in HindiDifference Between Symmetric and Asymmetric Encryption in Hindi

आजकल इंटरनेट जैसे असुरक्षित नेटवर्क पर अपने किसी भी प्रकार के डाटा को शेयर करने से पहले आपको अपने डेटा की गोपनीयता के बारे में सावधान रहना होगा जो आप दूसरे के साथ साझा कर रहे हैं। आपके डेटा की गोपनीयता को सुरक्षा प्रदान करने के लिए Symmetric और Asymmetric Encryption यह दो तरह की Techniques का उपयोग किया जाता है।

Symmetric और Asymmetric Encryption के बीच अगर मुख्य अंतर की बात की जाये तो यह है की symmetric encryption में मैसेज को एक ही Key द्वारा Encrypt और decryption किया जा सकता है। दूसरी ओर Asymmetric encryption में Encryption के लिए Public Key का उपयोग किया जाता है, और Decryption के लिए एक Private Key का उपयोग किया जाता है।

Symmetric और Asymmetric Encryption के बीच और भी बहुत सारे अंतर होते है जिनको हम नीचे Difference  Table के माध्यम से नीचे समझेंगे लेकिन उससे पहले हम Symmetric और Asymmetric Encryption के बारे में अच्छे से जानते है।

What is Symmetric Encryption in Hindi- Symmetric Encryption किसे कहते है।

Symmetric encryption एक ऐसी तकनीक है जो इंटरनेट पर शेयर किए गए मैसेज का इनक्रिप्शन और डिक्रिप्शन दोनों के प्रदर्शन के लिए केवल एक ही कुंजी के उपयोग की अनुमति देती है। इसे एन्क्रिप्शन के लिए उपयोग की जाने वाली पारंपरिक विधि के रूप में भी जाना जाता है। Symmetric encryption में प्लेनटेक्स्ट एन्क्रिप्ट किया गया है और एक कुंजी और एक एन्क्रिप्शन एल्गोरिथ्म का उपयोग करके सिफरटेक्स्ट में परिवर्तित किया गया है।

जबकि cipher text को उसी  Key  का उपयोग करके Plain Text में वापस परिवर्तित किया जाता है जो एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन एल्गोरिथ्म के लिए उपयोग किया गया था। Symmetric encryption एल्गोरिथ्म तेजी से निष्पादित करता है और इसलिए कम जटिल है और इसका उपयोग बल्क डेटा ट्रांसमिशन के लिए किया जाता है।

symmetric encryption में जो Host Communication में भाग ले रहे हैं उनके पास पहले से ही एक Secret Key होती है जो बाहरी साधनों के माध्यम से प्राप्त होती है और वह मैसेज को एन्क्रिप्ट करने के लिए उसी Key का उपयोग करेगा और Received Message को डिक्रिप्ट करने के लिए भी उसी Key का उपयोग करेगा। आमतौर पर symmetric encryption  में DES, 3 DES, AES, RC4  एल्गोरिदम उपयोग किए जाते हैं।

What is Asymmetric Encryption in Hindi- Asymmetric Encryption किसे कहते है।

Asymmetric encryption एक ऐसी एन्क्रिप्शन तकनीक है जो एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन के लिए एक Key (private key और  public key) की एक Pair का उपयोग करती है। Asymmetric encryption किसी भी मैसेज को एन्क्रिप्शन के लिए Public Key और मैसेज के डिक्रिप्शन के लिए Private Key का उपयोग करता है।

Public Key उन लोगों के लिए स्वतंत्र रूप से उपलब्ध है जो मैसेज को भेजने में रुचि रखते हैं। मैसेज के रिसीवर के साथ Private Key को गुप्त रखा जाता है। कोई भी मैसेज जो Public Key और एल्गोरिथ्म द्वारा एन्क्रिप्ट किया गया है तो उसी एल्गोरिथ्म और इसी Public Key के मिलान और Private Key का उपयोग करके डिक्रिप्ट किया जाता है।

Asymmetric encryption एल्गोरिथ्म में execution काफी धीरे होता है क्योकि asymmetric encryption एल्गोरिथम अपने नेचर के हिसाब से थोड़ा Complex है  इसलिए Asymmetric encryption का उपयोग बल्क डेटा ट्रांसमिशन के बजाय Key को सुरक्षित रूप से आदान-प्रदान करने के लिए किया जाता है।

Asymmetric encryption का उपयोग आमतौर पर इंटरनेट जैसे गैर-सुरक्षित माध्यम पर एक सुरक्षित चैनल स्थापित करने के लिए किया जाता है। सबसे आम Asymmetric encryption एल्गोरिथ्म  Diffie-Hellman और RSA algorithm हैं।

Difference Between Symmetric and Asymmetric Encryption in Hindi

अभी तक ऊपर हमने जाना की Symmetric और Asymmetric Encryption किसे कहते है? अगर आपने ऊपर दी गयी सारी बाते ध्यान से पढ़ी है तो आपको Symmetric और Asymmetric Encryption के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा ।

अगर आपको अब भी Symmetric और Asymmetric Encryption में कोई confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

BASIS FOR COMPARISON SYMMETRIC ENCRYPTION ASYMMETRIC ENCRYPTION
Basic Symmetric encryption एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन दोनों के लिए एक ही Key का उपयोग करता है। Asymmetric encryption एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन के लिए एक अलग Keys का उपयोग करता है।
Performance Symmetric encryption निष्पादन (execution) में तेज है। High computational burden के कारण Asymmetric encryption निष्पादन में धीमा है।
Algorithms DES, 3DES, AES, और  RC4. Diffie-Hellman, RSA.
Purpose Symmetric encryption का उपयोग बल्क डेटा ट्रांसमिशन के लिए किया जाता है। Asymmetric encryption  का उपयोग अक्सर Secret Keys के सुरक्षित आदान-प्रदान के लिए किया जाता है।

Conclusion

आज के इस पोस्ट में हमने Difference Between Symmetric and Asymmetric Encryption in Hindi की Symmetric और Asymmetric Encryption के बीच में क्या अंतर होता हैं इसके बारे में जाना और Symmetric और Asymmetric Encryption क्या होता है इसको भी अच्छे से समझा।

एक जटिल और धीमी एन्क्रिप्शन तकनीक होने के नाते Asymmetric encryption का उपयोग आमतौर पर Keys के आदान-प्रदान के लिए किया जाता है और symmetric encryption एक काफी तेज़ तकनीक है जिसका उपयोग बल्क डेटा ट्रांसमिशन के लिए किया जाता है।

Related Differences:

Difference Between SMTP and POP3 in Hindi

Difference Between Broadcast and Multicast in Hindi

Difference Between FTP and SFTP in Hindi

Difference Between Bridge and Switch in Hindi

Leave a Reply