Difference Between TCP and UDP in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between TCP and UDP in Hindi में जानेंगे की TCP और UDP Protocol के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between TCP and UDP in Hindi

Difference Between TCP and UDP in Hindi

TCP और  UDP दोनों प्रोटोकॉल TCP/IP और OSI Model  के Transport layer पर काम करने वाले प्रोटोकॉल हैं।और ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल (टीसीपी) और यूजर डेटाग्राम प्रोटोकॉल (यूडीपी) के बीच कुछ समानताएं और असमानताएं हैं।

अगर इनके बीच मुख्य अंतर की बात की जाये तो TCP एक Connection-oriented Protocol है जो हमें End to End Data डिलीवरी की गारंटी देता है क्योकि यह डाटा ट्रांसफर करने से पहले कंप्यूटरों के बीच कनेक्शन Establish करता है।

दूसरी ओर UDP एक Connection-less Protocol  है क्योंकि यह डेटा भेजने से पहले कनेक्शन को Determine  नहीं करता है।

इसके आलावा भी TCP और UDP प्रोटोकॉल में बहुत सारे अंतर होते है लेकिन उनको जानने से पहले हम यह जानेगे की TCP और UDP प्रोटोकॉल किसे कहते है।

What is TCP protocol in Hindi

ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल (टीसीपी) इंटरनेट प्रोटोकॉल सूट के सबसे महत्वपूर्ण प्रोटोकॉल में से एक है। यह इंटरनेट पर कम्युनिकेशन नेटवर्क में डेटा ट्रांसमिशन के लिए सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला प्रोटोकॉल है।

टीसीपी या ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल एक connection-oriented protocol है जो TCP/ IP Model की transport layer पर काम करता है। यह प्रोटोकॉल कम्युनिकेशन शुरू करने से पहले Source और Destination  कंप्यूटर के बीच प्रॉपर कनेक्शन को स्थापित करता है। TCP को अत्यधिक विश्वसनीय है प्रोटोकॉल माना जाता है क्योंकि यह 3-वे हैंडशेक flow, error और congestion control का उपयोग करता है।

How TCP work in Hindi-TCP प्रोटोकॉल कैसे काम करता हैं?

TCP प्रोटोकॉल Connection को Three-way handshake के आधार पर Establish करता हैं यह एक कनेक्शन शुरू करने और स्वीकार करने की एक प्रक्रिया है। एक बार कनेक्शन स्थापित होने के बाद, डेटा ट्रांसफर शुरू हो जाता है।

TCP प्रोटोकॉल यह भी चेक करता है की सोर्स से ट्रांसमिट होने वाला डाटा डेस्टिनेशन तक पहुंच रहा है या नहीं अगर डाटा डेस्टिनेशन तक सही फॉर्मेट में नहीं पहुँचता है तो यह उसे दोबरा Re transmit करता हैं।

Features of TCP

TCP प्रोटोकॉल की कुछ मुख्य विशेषताएं निम्न प्रकार हैं?

  • Delivery Acknowledgements
  • Re transmission
  • Delays transmission when the network is congested
  • Easy Error detection

Advantage of TCP

TCP के कुछ मुख्य लाभ इस प्रकार हैं।

  • यह आपको विभिन्न प्रकार के कंप्यूटरों के बीच Connection को स्थापित करने में मदद करता है।
  • यह ऑपरेटिंग सिस्टम से स्वतंत्र रूप से संचालित होता है।
  • यह कई Routing-protocols का समर्थन करता है।
  • यह संगठनों के बीच इंटरनेटवर्क को सक्षम बनाता है।
  • यह TCP/IP model में अत्यधिक स्केलेबल क्लाइंट-सर्वर आर्किटेक्चर है।

Disadvantages of TCP

टीसीपी प्रोटोकॉल का उपयोग करने के होने वाले नुकसान निम्न लिखित हैं:

  • आप Broadcast or Multicast Transmission के लिए उपयोग नहीं कर सकते।
  • टीसीपी की कोई block boundaries नहीं है आपको खुद ही बनानी पड़ती है।
  • TCP में बहुत सारे ऐसे फीचर होते है जिनकी हमें आवश्यकता नहीं होती इसलिए यह बैंडविड्थ, समय को बर्बाद करता है।

What is UDP in Hindi

UDP जिसका पूरा नाम User Datagram Protocol हैं यह प्रोटोकॉल TCP/IP मॉडल के Transport Layer पर काम करता हैं।

यह Communication प्रोटोकॉल हो जो एक नेटवर्क में computing devices के बीच इनफार्मेशन के आदान-प्रदान की सुविधा देता है। UDP  को इंटरनेट पर डेटा भेजने के लिए डिज़ाइन किया गया हैं।

How UDP Works:

यूडीपी इंटरनेट प्रोटोकॉल का उपयोग करके एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर पर डेटाग्राम (डेटा यूनिट) भेजता है। यूडीपी एक यूडीपी पैकेट में डेटा को एन्क्रिप्ट करता है और पैकेट पर अपनी हेडर जानकारी जोड़ता है।

यूडीपी कनेक्शन पर डेटा स्थानांतरित करने के लिए हेडर का उपयोग करता है। इसके हेडर में फ़ील्ड्स  के नाम से पैरामीटर का एक सेट होता है। एक यूडीपी हेडर में चार फ़ील्ड होते हैं जो इस प्रकार हैं:

  1. Source Port: यह एक 2 बाइट फ़ील्ड है जो Source Port को संख्या बताता है।
  2. Destination Port: यह भी 2 बाइट का होता हैं जो Destination Port को बताता हैं।
  3. Length: यह 16 बिट का होता हैं।
  4. Checksum: यह एक 2 Byte long field  है जिसका उपयोग Error की जांच करने के लिए किया जाता है।

Difference Between TCP and UDP in Hindi

अभी तक हमने जाना की TCP और UDP प्रोटोकॉल किसे कहते है और TCP तथा UDP प्रोटोकॉल कैसे काम करता हैं? अब हम Difference Between TCP and UDP in Hindi में जानेंगे की TCP और UDP Protocol के बीच में क्या अंतर होता हैं?

TCP और UDP के बीच कुछ प्रमुख अंतर इस प्रकार हैं।

TCP UDP
यह एक Connection-oriented protocol हैं। यह एक connection less protocol हैं।
टीसीपी डेटा को बाइट्स की streams के रूप में पढ़ता है, और मैसेज को segment boundaries में ट्रांसमिट होता है। यूडीपी संदेशों में एक-एक करके भेजे गए पैकेट होते हैं।
TCP messages एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर पर इंटरनेट पर अपना रास्ता बनाते हैं। यह connection-based नहीं है, इसलिए एक प्रोग्राम दूसरे को बहुत सारे पैकेट भेज सकता है।
TCP विशिष्ट क्रम में डेटा पैकेट को फिर से व्यवस्थित करता है। यूडीपी प्रोटोकॉल का कोई fixed order  नहीं है क्योंकि सभी पैकेट एक दूसरे से स्वतंत्र हैं।
TCP प्रोटोकॉल की स्पीड धीमी होती है. UDP प्रोटोकॉल काफी फ़ास्ट होता हैं।
इसमें Header का size  20 bytes का होता हैं। इसमें Header का size 8 bytes का होता हैं।
टीसीपी भारी-भरकम है। डेटा को भेजने से पहले टीसीपी को सॉकेट कनेक्शन स्थापित करने के लिए तीन पैकेट की आवश्यकता होती है। UDP प्रोटोकॉल lightweight का होता है।
TCP Error को चेक करता है। UDP error को चेक करता है, लेकिन यह erroneous packets को discards कर देता है।
Acknowledgment segments No Acknowledgment segments
TCP में SYN, SYN-ACK, ACK जैसे हैंडशेक प्रोटोकॉल का उपयोग होता हैं। No handshake
टीसीपी विश्वसनीय है क्योंकि यह Destination को डेटा की डिलीवरी की गारंटी देता है। इसमें डाटा Delivery की कोई गारंटी नहीं होती हैं।
TCP extensive error checking mechanisms प्रदान करता है। UDP में सिर्फ single error checking mechanism होती है जो checksums के लिए इस्तेमाल होती है।

Conclusion

आज की इस पोस्ट में हमने जाना Difference Between TCP and UDP in Hindi की TCP और UDP Protocol के बीच में क्या अंतर होता हैं?  साथ ही यह भी जाना की TCP और UDP प्रोटोकॉल किसे कहते है और  TCP तथा UDP प्रोटोकॉल कैसे काम करता हैं?

TCP और UDP दोनों प्रोटोकॉल के अपने फायदे और नुकसान हैं। UDP प्रोटोकॉल faster, simpler और efficient हैं  और इसलिए आमतौर पर ऑडियो, वीडियो फ़ाइलों को भेजने के लिए UDP का उपयोग किया जाता है। दूसरी ओर, टीसीपी प्रोटोकॉल को विश्वसनीय है और यह users को डाटा पैकेट Delivery की गारंटी देता है।

Related Differences

Difference Between Flow Control and Congestion Control in Hindi

Difference Between Flow Control and Error Control in Hindi

Difference Between FTP and TFTP in Hindi

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here