Virtual और Cache Memory में क्या अंतर है?

इस पोस्ट में हम Difference Between Virtual and Cache Memory in OS in Hindi में जानेंगे की Virtual और Cache Memory में क्या अंतर है?

Virtual और Cache Memory में क्या अंतर है?Virtual और Cache Memory में क्या अंतर है?

कंप्यूटर की मेमोरी एक हार्डवेयर डिवाइस है जिसका उपयोग कंप्यूटर में इनफार्मेशन को अस्थायी या स्थायी रूप से स्टोर करने के लिए किया जाता है। इस पोस्ट में Virtual और Cache Memory के बीच अंतर पर चर्चा की है।

अगर Virtual और Cache Memory के बीच के मुख्य अंतर की बात की जाए तो Cache मेमोरी एक हाई-स्पीड मेमोरी है जिसका उपयोग डेटा के एक्सेस टाइम को कम करने के लिए किया जाता है। दूसरी ओर वर्चुअल मेमोरी वास्तव में एक फिजिकल मेमोरी नहीं है यह एक ऐसी तकनीक है जो मुख्य मेमोरी की क्षमता को उसकी सीमा से आगे बढ़ाती है।

वर्चुअल मेमोरी और कैश मेमोरी के बीच दूसरा मुख्य अंतर यह है कि एक वर्चुअल मेमोरी उपयोगकर्ता को उन प्रोग्राम को निष्पादित करने की अनुमति देती है जो मुख्य मेमोरी से बड़े होते हैं, जबकि कैश मेमोरी हाल ही में उपयोग किए गए डेटा फ़ास्ट एक्सेस की अनुमति देती है।

इसके आलावा भी Virtual और Cache Memory में कुछ महत्वपूर्ण अंतर होते है जिनको Difference Table के माध्यम से हम नीचे जानेगे लेकिन उससे पहले Virtual और Cache Memory किसे कहते है इसको और अच्छे से समझ लेते है।

What is Virtual Memory in Hindi-वर्चुअल मेमोरी किसे कहते है?

एक कंप्यूटर सिस्टम पर फिजिकल इन्टॉल मेमोरी के आलावा और मेमोरी को संबोधित कर सकता है। इस अतिरिक्त मेमोरी को वास्तव में वर्चुअल मेमोरी कहा जाता है और यह एक हार्ड डिस्क का एक खंड है जो कंप्यूटर की रैम का अनुकरण करने के लिए स्थापित किया जाता है।

वर्चुअल मेमोरी का मुख्य लाभ यह है कि जो प्रोग्रम सिस्टम की फिजिकल मेमोरी से बड़े होते है उन्हें भी वर्चुअल मेमोरी की सहायता से Execute किया जा सकता हैं।

वर्चुअल मेमोरी दो उद्देश्यों को पूरा करती है। सबसे पहले, यह हमें डिस्क का उपयोग करके फिजिकल मेमोरी के उपयोग को विस्तारित करने की अनुमति देता है। दूसरा, यह हमें मेमोरी प्रोटेक्शन की अनुमति देता है, क्योंकि प्रत्येक वर्चुअल एड्रेस का फिजिकल एड्रेस  में अनुवाद किया जाता है।

जैसा की मैंने पहले बताया की वर्चुअल मेमोरी वास्तव में कंप्यूटर की फिजिकल मेमोरी नहीं है, बल्कि यह एक ऐसी तकनीक है जो एक बड़े कार्यक्रम के Execution की अनुमति देती है जो पूरी तरह से मुख्य मेमोरी में नहीं रखी जा सकती है। यह प्रोग्रामर को मुख्य मेमोरी से बड़े प्रोग्राम्स को निष्पादित करने में सक्षम बनाता है।

वर्चुअल मेमोरी के निम्नलिखित फायदे हैं

  • वर्चुअल मेमोरी मल्टीप्रोग्रामिंग की डिग्री को बढ़ाती है।
  • CPU उपयोग को बढ़ाता है।
  • अधिक भौतिक मेमोरी उपलब्ध है, क्योंकि प्रोग्राम वर्चुअल मेमोरी पर संग्रहीत होते हैं, इसलिए वे वास्तविक भौतिक मेमोरी पर बहुत कम जगह घेरते हैं।

What is Cache Memory in Hindi-कैश मेमोरी किसे कहते है?

कंप्यूटर की Cache Memory एक बहुत ही हाई स्पीड वाली मेमोरी है। इसका उपयोग उच्च गति सीपीयू के साथ गति और सिंक्रनाइज़ करने के लिए किया जाता है। कैश मेमोरी मुख्य मेमोरी या डिस्क मेमोरी की तुलना में महंगा है लेकिन सीपीयू रजिस्टरों की तुलना में किफायती है।

कैश मेमोरी एक बहुत तेज मेमोरी प्रकार है जो रैम और सीपीयू के बीच बफर के रूप में कार्य करता है। कंप्यूटर में Cache Memory रीसेंट में एक्सेस किये गए डेटा की एक Cache फाइल अपने मेमोरी में स्टोर कर लेती है।

जब यूजर दोबारा से उस डेटा को एक्सेस करता है तो Cache Memory उस डेटा को फ़ास्ट स्पीड में CPU को प्रदान कर देती है इससे डेटा को एक्सेस करने में टाइम कम लगता है। Cache Memory हाल में अनुरोधित डेटा और निर्देश को मेमोरी में रखता है ताकि जरूरत पड़ने पर वे तुरंत सीपीयू के लिए उपलब्ध हों।

Cache Memory के निम्नलिखित फायदे हैं

  • कैश मेमोरी मुख्य मेमोरी से काफी फ़ास्ट होती है।
  • यह मुख्य मेमोरी की तुलना में कम एक्सेस समय का उपभोग करता है।
  • यह उस कार्यक्रम को संग्रहीत करता है जिसे थोड़े समय के भीतर निष्पादित किया जा सकता है।
  • यह अस्थायी उपयोग के लिए डेटा संग्रहीत करता है।

वर्चुअल मेमोरी और कैश मेमोरी में क्या अंतर है?

अभी तक ऊपर हमने जाना की Virtual और Cache Memory  किसे कहते है अगर आपने ऊपर दी गयी सारी चीजे ध्यान से पढ़ी है तो आपको Virtual और Cache Memory  के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा।

अगर आपको अब भी Virtual और Cache Memory  क्या होता है और इसमें क्या अंतर है इसको समझने में में कोई Confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

BASIS FOR COMPARISON VIRTUAL MEMORY CACHED MEMORY
Basic वर्चुअल मेमोरी उपयोगकर्ता के लिए मुख्य मेमोरी की क्षमता बढ़ाती है। Cache memory  सीपीयू की डेटा एक्सेस स्पीड को तेज करती है।
Nature वर्चुअल मेमोरी एक तकनीक है। Cache memory एक स्टोरेज यूनिट है।
Function वर्चुअल मेमोरी प्रोग्राम को निष्पादित करने की अनुमति देती है जो मुख्य मेमोरी से बड़ा है। Cache memory  मूल डेटा की कॉपी को संग्रहीत करती है जो हाल ही में उपयोग की गई हैं।
Memory management वर्चुअल मेमोरी को ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा मैनेज की जाती है। Cache memory पूरी तरह से हार्डवेयर द्वारा मैनेज की जाती है।
Size वर्चुअल मेमोरी Cache मेमोरी से कहीं अधिक बड़ी है। Cache memory का साइज सीमित है।
Mapping वर्चुअल मेमोरी को वर्चुअल एड्रेस को फिजिकल एड्रेस पर मैप करने के लिए मैपिंग स्ट्रक्चर की आवश्यकता होती है।  Cache memory में किसी भी मैपिंग संरचना की आवश्यकता नहीं होती है।

Conclusion

इस पोस्ट में हमने जाना Difference Between Virtual and Cache Memory in Hindi की Virtual और Cache Memory में क्या अंतर है इसके साथ ही Virtual और Cache Memory किसे कहते है इसको भी हमने अच्छे से समझा।

वर्चुअल मेमोरी वस्तुतः उपयोगकर्ताओं के लिए मुख्य मेमोरी की क्षमता का विस्तार करने की एक तकनीक हैजबकि Cache मेमोरी एक स्टोरेज यूनिट है जो हाल ही में एक्सेस किए गए डेटा को स्टोर करती है जो सीपीयू को तेजी से एक्सेस करने में काफी मदद करती है।

Related Differences

CD और DVD में क्या अंतर है?

SSD और HDD में क्या अंतर है?

Magnetic disk और Optical disk में क्या अंतर है?

Network Operating System और Distributed Operating System में क्या अंतर है?

RAID 0 और RAID 1 में क्या अंतर है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here