Difference Between Virus And Worms in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between Virus And Worms in Hindi में जानेंगे की Virus और Worms के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between Virus And Worms in Hindi

Virus और Worm दोनों ही एक प्रकार के Malicious Program होते है जो आपके कंप्यूटर में CD’s, Pen drives, email attachments के साथ जब हम इंटरनेट से कोई फाइल अपने कंप्यूटर में डाउनलोड करते है तो उसके साथ वह भी हमारे कंप्यूटर में आ जाते है।

Virus और Worm दोनों ही हमारे कंप्यूटर के लिए बहुत ही हानिकारक होते है अगर Virus और Worm के बीच अंतर की बात की जाए तो दोनों में कुछ Similarities और Dissimilarities होती है जिनको हम डिटेल्स में इस पोस्ट में जानेगे।

Virus और Worm के बीच मुख्य Difference की बात की जाये तो कंप्यूटर Worm को रेप्लिकेट करने के लिए किसी भी तरह के Human Action की आवश्यकता नहीं होती है।

जबकि कंप्यूटर में वायरस तभी रेप्लिकेट होते है जब हम कोई वायरस से संक्रमित फाइल को Pen-drive से कॉपी या इंटरनेट से डाउनलोड करते है।

Difference Between Virus And Worms in Hindi

Virus और Worms के बीच में क्या अंतर होता हैं? इसको जानने से पहले हम Virus और Worms क्या होता है जानते है इसको जानने के बाद Virus और Worms के बीच में क्या अंतर है के बारे में डिटेल्स में जानेंगे।

What is Computer Virus in Hindi- Virus क्या हैं?

कंप्यूटर वायरस एक प्रकार का software program होता है जिसे malicious program भी कहा जाता हैं जो हमारे कंप्यूटर में पहुंचकर उसकी फाइल्स को Edit, Delete या आपके Important डेटा को चुरा सकता है

वायरस को कंप्यूटर में सक्रिय होने के लिए मानव इनपुट की आवश्यकता होती है। जब आप अपने कंप्यूटर में कोई वायरस Affected फाइल डाउनलोड करते है तो उसके साथ ही वायरस भी हमारे कंप्यूटर में आ जाता है।

जैसे की आपको ईमेल के माद्यम से कोई अजीब सी Attachment फाइल्स आती है जिसे आप यह सोच कर ओपन करते है की यह कोई आम फाइल की तरह होगी इस तरह की फाइल्स को जब आप खोलते हैं, तो मैलवेयर प्रोग्राम आपके कम्यूटर में लॉन्च हो जाता है

वायरस स्वयं को दूसरे प्रोग्राम में कॉपी करके प्रतिकृति बनाता है दूसरे शब्दों में कहे तो कंप्यूटर वायरस अपने आप में अन्य Executable code और Documents में फैलता है।

कंप्यूटर वायरस बनाने का उद्देश्य कप्यूटर को संक्रमित करके उसपर Unauthorized Access हासिल करना और उपयोगकर्ता के संवेदनशील डेटा को चोरी करना होता है। हैकर्स दुर्भावनापूर्ण इरादे से कंप्यूटर वायरस को डिजाइन करते हैं और इंटरनेट के माध्यम से वह कंप्यूटर पर अटैक करते है।

How to spread virus in computer in Hindi वायरस कंप्यूटर में कैसे फैलता हैं। 

  • Clicking on malicious ads
  • Downloading harmful email attachments
  • Installing freeware
  • Participating in P2P sharing

कंप्यूटर वायरस विभिन्न तरीकों से हमारे कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाता है जैसे:

  • यह हमारे Hard Disk के Space को Use करता है।
  • यह हमारे कंप्यूटर के Hard disk drive के Data को Completely erasing कर सकता है।
  • कंप्यूटर की फाइल्स को Edit कर सकता है।
  • कंप्यूटर की स्पीड को धीमा कर देता हैं।

Phases of Virus

  • Dormant Phase –इस स्टेज पर एक वायरस अपने निष्क्रिय अवस्था में होता है।
  • Propagation Phase –इस चरण में कंप्यूटर वायरस अपनी खुद की बहुत सारी कॉपी बनाता है।
  • Triggering phase – इस स्टेज में कंप्यूटर वायरस आपके कंप्यूटर में एक्टिव हो जाता है।
  • Execution phase – इस चरण में, वायरस वास्तविक कार्य करता है जो हानिरहित या विनाशकारी हो सकता है।

Types of Virus- वायरस के प्रकार

Parasitic Virus

इस प्रकार के वायरस खुद को executable files के साथ Attached करते हैं और फिर खुद को कंप्यूटर में Replicates करते हैं।

Memory resident virus

इस प्रकार के वायरस खुद को Main Memory के एक विशेष क्षेत्र में Attach करते हैं और फिर इसे Execute होने वाली प्रत्येक फ़ाइल को संक्रमित करते हैं।

Boot sector Virus

इस वायरस का मुख्य लक्ष्य डिस्क का मास्टर बूट रिकॉर्ड है। यह मास्टर बूट रिकॉर्ड को संक्रमित करता है और कंप्यूटर के बूटिंग के समय से ही फैलने लगता है।

MULTIPARTITE VIRUS

यह वायरस पूरे कंप्यूटर सिस्टम को संक्रमित करता है। यह आपके ऑपरेटिंग सिस्टम, फ़ोल्डर्स और प्रोग्राम्स पर unauthorized actions करने के करना कंप्यूटर में फैलता है ।

BROWSER HIJACKER

यह वायरस आपके कंप्यूटर के वेब ब्राउज़र को संक्रमित करता है और आपको malicious websites पर रीडायरेक्ट करता रहता है  और साथ ही ब्राउज़र की स्पीड को भी धीमा कर देता है।

WEB SCRIPTING VIRUS

यह वायरस किसी links, ads, images, videos और site code में की तरह होते है। और जब उपयोगकर्ताओंl ऐसी inks, ads, images, videos को डाउनलोड करते है तो तह सिस्टम को संक्रमित कर देता है।

FILE INFECTOR

Executable files (.exe) को टारगेट करके, फाइल इन्फैक्टर वायरस प्रोग्राम और डैमेज सिस्टम फाइल्स को तब धीमा कर देते हैं जब कोई यूजर उन्हें रन करता है।

NETWORK VIRUS

नेटवर्क वायरस नेटवर्क कनेक्शन के माध्यम से एक सिस्टम से दूसरे सिस्टम  में फैलते है और shared resources के माध्यम से खुद को दोहराते हैं।

What is Computer worms in Hindi-worms क्या हैं?

Computer worm एक स्टैंडअलोन मैलवेयर कंप्यूटर प्रोग्राम है जो अन्य कंप्यूटरों में फैलने के लिए खुद की प्रतिकृति बनाता है। यह अक्सर खुद को फैलाने के लिए एक कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग करता है।

जिस कंप्यूटर में Security Failures होते है उनमे यह पहुंचकर पूरे नेटवर्क के कम्प्यूटर्स को संक्रमित कर देता है। कंप्यूटर Worm यह अन्य कंप्यूटरों को स्कैन और संक्रमित करने के लिए एक Host के रूप में इस मशीन का उपयोग करता हैं।

Computer worms एक  विशेष प्रकार के मैलवेयर होते हैं, जो बिना किसी मानवीय संपर्क के खुद को दोहराते और फैलाते हैं जो कि वास्तव में उन्हें इतना खतरनाक बनाता है।

Worm का अक्सर, केवल एक ही उद्देश्य होता है: अपने आप को Replicate करना और फैलाना। उनका प्राथमिक इरादा आमतौर पर आपके कंप्यूटर पर डेटा, सॉफ़्टवेयर या सिस्टम में हेरफेर करने का नहीं है बस यह आपके कंप्यूटर की परफॉरमेंस को ख़राब कर देते है

जैसा की मैंने आपसे पहले ही बताया की Worm को किसी इनपुट की आवश्यकता नहीं होती है। एक बार जब किसी Worm आपके कंप्यूटर में आ जाता है तो यह स्वयं की प्रतियां बनाना शुरू कर देता है और कई तरह की तकनीकों का उपयोग करके एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में फैलता रहता हैं ।

How to spread worms in computer in Hindi-worms कंप्यूटर में कैसे फैलता हैं। 

  • Files found in email attachments.
  • Through a web link or FTP resource.
  • Links received through the ICQ and IRC (Internet Relay Chat) message.
  • Via peer-to-peer file-sharing networks

Difference Between Virus And Worms in Hindi

ऊपर हमने Virus और  Worms क्या होता है इसके बारे में डिटेल्स में जाना अब हम जानेगे की Virus और  Worms में क्या अंतर है।

BASIS FOR COMPARISON VIRUS WORMS
Meaning वायरस खुद को Executable फ़ाइलों से जोड़ता है और एक Systemसे दूसरे में स्थानांतरित करता है। एक Worm एक Malicious Program है जो कंप्यूटर में खुद की कॉपी बनाता है और नेटवर्क के माध्यम से विभिन्न कंप्यूटरों में फैल सकता है।
Human Action वायरस को कंप्यूटर में सक्रिय होने के लिए मानव इनपुट की आवश्यकता होती है Not Required
Speed of Spreading वायरस कंप्यूटर में धीरे-धीरे फैलता हैं बहुत तेजी से फैलता है।
Requirement of host वायरस को स्प्रेड होने के लिए होस्ट की आवश्यकता होती है। एक कंप्यूटर से दूसरे में फैलने के लिए होस्ट की आवश्यकता नहीं होती है।
Removing Malware  Install Antivirus या कंप्यूटर को फॉर्मेट करें कंप्यूटर को फॉर्मेट करें
Protect the System using  कंप्यूटर में Antivirus software को Install करें Antivirus, firewall का इस्तेमाल करें
Consequences यह कंप्यूटर की सभी file और program को Corrupt और Erase कर देता हैं। यह Computer के resources का इस्तेमाल करके उसे slows कर देता हैं।

Key Difference Between Virus And Worms

अब हम कंप्यूटर Worm और Virus में जो मुख्य अंतर है उनको नीचे समझने की कोशिश करते हैं।

  1. Worm कम्यूटर नेटवर्क के माध्यम से एक कम्यूटर से दूसरे कम्यूटर में फैलता है जबकि वायरस executable files के द्वारा दूसरे कंप्यूटर में फैलता हैं।
  2. Worm कंप्यूटर में बड़ी तेजी से फ़ैल कर उसको संक्रमित कर देता है जबकि वायरस धीरे धीरे कंप्यूटर को संक्रमित करता है।
  3. Worm हमारे कंप्यूटर की फाइल्स को edit या Delete नहीं करता बस कंप्यूटर के Resource को नुकशान पहुंचाता है जबकि वायरस कम्यूटर के महत्वपूर्ण डाटा को edit या Delete कर सकता हैं।
  4. वायरस को सिस्टम में फैलने के लिए human action की आवश्यकता होती है जबकि Worm अपने आप कंप्यूटर में फैलता हैं।
  5. Worm एक स्वतंत्र फ़ाइल हैं जो एक संक्रमित कंप्यूटर की मेमोरी के भीतर मौजूद होते हैं, जबकि, वायरस executable files  हैं या संचालित करने के लिए खुद को अन्य executable files के साथ संलग्न करते हैं।
  6. वायरस को फैलाने के लिए Host की आवश्यकता होती है जबकि Worm को किसी Host की आवश्यकता नहीं होती है।
  7. वायरस टारगेट कंप्यूटर के डेटा को corrupts और modifies करता है, जबकि, वर्म बैंडविड्थ का उपभोग करके, फ़ाइलों को हटाकर या ईमेल भेजकर नेटवर्क को नुकसान पहुंचाता है।
Protection against Virus and Worms-Virus और Worms से कैसे बचे?
  1. वायरस और Worms से अपने कंप्यूटर को बचाने के लिए हमेशा Anti-virus software और  firewall का इस्तेमाल करें।
  2. समय समय पर अपने Important डाटा जा बैकअप लेते रहें।
  3. अपने कंप्यूटर के operating system को Regularly Update करते रहें।
  4. अपने कंप्यूटर की Notification और Alert को हमेशा On करके रक्खे।
  5. Mail में आयी ऐसी किसी भी Attachment फाइल को खोलने से बचे जिसके बारे में आपको न पता हो।
  6. ntrusted marketplaces के फ्री सॉफ्टवेयर को अपने कंप्यूटर में Install न करें।
  7. किसी के साथ फ़ाइल शेयर करते हुए बेहद सतर्क रहें।
  8. किसी भी विज्ञापनों पर क्लिक न करें, विशेषकर उन ब्रांडों और वेबसाइटों से जिनके साथ आप परिचित नहीं हैं

Conclusion

आज की इस पोस्ट में हमने Difference Between Virus And Worms in Hindi में जाना की Virus और Worms के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Virus और Worms दोनों ही मैलवेयर प्रोग्राम होते हैं जो मुख्य रूप से आपके सिस्टम को नुकसान पहुंचाने या आपके सिस्टम की सुरक्षा को भंग करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।

वायरस आपके कंप्यूटर की फाइल्स को Delete या Modify कर सकते है जबकि Worms कम्यूटर की फ़ाइल या प्रोग्राम में कोई बदलाव नहीं करते हैं बल्कि कंप्यूटर के रिसोर्स को यूज़ करके उसकी Performance को ख़राब कर देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here