SSL ka Full form in Hindi-SSL किसे कहते हैं?

इस पोस्ट में हम जानेगे SSL ka Full form in Hindi-SSL किसे कहते हैं? अगर आप एक स्टूडेंट है और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे है तो आपको SSL ka Full form पता होना चाहिए क्योकि खासकर हर परीक्षाओं में फुलफॉर्म से संबंधित एक-दो प्रशन जरूर पूछे जाते है।

अगर आप इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ेंगे तो आपको SSL ka Full form के आलावा SSL किसे कहते हैं? इसके बारे में भी आपको अच्छी तरह से जानकारी मिल जाएगी।

SSL ka Full form in Hindi-SSL किसे कहते हैं?

SSL का फुलफॉर्म Secure Sockets Layer होता है। यह एक स्टैंडर्ड सुरक्षा तकनीक (एक प्रोटोकॉल) है जो एक असुरक्षित नेटवर्क, जैसे इंटरनेट पर वेब सर्वर और ब्राउज़र (वेब क्लाइंट) के बीच सुरक्षित संचार प्रदान करता है। यह वेब सर्वर और ब्राउज़रों के बीच एक्सचेंज किए गए डेटा की गोपनीयता और अखंडता को बनाए रखता है।

एक सुरक्षित SSL कनेक्शन स्थापित करने के लिए वेब सर्वर के पास SSL certificate होना आवश्यक है। SSL नेटवर्क कनेक्शन सेगमेंट को एन्क्रिप्ट करता है जो ट्रांसपोर्ट लेयर से ऊपर होता है, जो प्रोग्राम लेयर के ऊपर नेटवर्क कनेक्शन का एक कंपोनेंट है।

SSL एक असममित क्रिप्टोग्राफ़िक तंत्र के माध्यम से काम करता है, जिसमें वेब ब्राउज़र एक सार्वजनिक कुंजी और एक निजी कुंजी बनाता है। सार्वजनिक कुंजी, जिसे प्रमाणपत्र सिग्नलिंग अनुरोध (CSR) कहा जाता है, को डेटा फ़ाइल में रखा जाता है। निजी कुंजी केवल प्राप्तकर्ता के लिए उत्पन्न होती है।

यह डेटा बनाता है, जो उपयोगकर्ताओं और साइटों के बीच साझा किया जाता है और जिसे रीड करना असंभव है। यह ट्रांजिट में डेटा को स्कैन करने के लिए एन्क्रिप्शन एल्गोरिदम का उपयोग करता है, ताकि हैकर्स को इसे पढ़ने से रोका जा सके।

यह डेटा आपका बैंक लॉगिन आईडी और पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड विवरण, सोशल मीडिया लॉगिन विवरण और अन्य वित्तीय जानकारी आदि हो सकता है। उदाहरण के लिए, जब आप ऑनलाइन खरीदारी करते हैं, तो आपके द्वारा वेबसाइटों के साथ साझा किए गए विवरण सुरक्षित रहते हैं।

एसएसएल ट्रांसपोर्ट लेयर सिक्योरिटी (टीएलएस) का पूर्ववर्ती है, जो इंटरनेट डेटा के सुरक्षित प्रसारण के लिए एक प्रोटोकॉल है। TLS (ट्रांसपोर्ट लेयर सिक्योरिटी) एसएसएल का अपडेटेड और अधिक सुरक्षित संस्करण है। आप एक वेबसाइट के URL में HTTPS (हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल सिक्योर) देख सकते हैं, जो एक SSL सर्टिफिकेट द्वारा सुरक्षित है। प्रमाण पत्र का विवरण देखने के लिए, आप URL के बाईं ओर ब्राउज़र बार पर लॉक प्रतीक पर क्लिक कर सकते हैं।

इंटरनेट इंजीनियरिंग टास्क फोर्स ने क्रमशः 2011 और 2015 में एसएसएल 2.o और 3.0 दोनों को बंद कर दिया है और उन्हें ट्रांसपोर्ट लेयर सिक्योरिटी (टीएलएस) प्रोटोकॉल द्वारा प्रतिस्थापित किया है।

Benefits of SSL:

Data integrity: डेटा को टेम्पर्ड नहीं किया जा सकता क्योंकि इसे एक सादे टेक्स्ट के रूप में नहीं भेजा जाता है, इसलिए यदि इसे इंटरसेप्ट किया जाता है, तो भी इसे डिकोड नहीं किया जा सकता है।

Data privacy: SSL रिकॉर्ड प्रोटोकॉल, एसएसएल हैंडशेक प्रोटोकॉल, एसएसएल चेंज सिफरस्पेस प्रोटोकॉल और एसएसएल अलर्ट प्रोटोकॉल सहित प्रोटोकॉल की एक श्रृंखला का उपयोग करके डेटा की गोपनीयता को बनाए रखा जाता है। इसलिए, गोपनीय जानकारी, जैसे कि क्रेडिट कार्ड नंबर, लॉगिन विवरण, सुरक्षित रूप से प्रेषित किए जा सकते हैं।

Client-server authentication:यह क्लाइंट और सर्वर को प्रमाणित करने के लिए मानक क्रिप्टोग्राफिक तकनीक का उपयोग करता है।

Conclusion 

इस पोस्ट के माध्यम से हमने जाना SSL  ka Full form in Hindi इसके साथ ही SSL किसे कहते हैं इसको भी हमने अच्छे से समझा।

Ravi Girihttps://hinditechacademy.com/
Hi Friends, I'm Ravi Giri Admin of HindiTechAcademy दोस्तों मुझे कंप्यूटर, मोबाइल और इन्टरनेट टेक्नोलॉजी में काफी रूचि है, और इसी से संबधित हर रोज़ एक नयी चीज़ अपने ब्लॉग पर पोस्ट करता रहता हूँ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,566FansLike
823FollowersFollow

Must Read