What is Fashion Design in Hindi-फैशन डिजाइन क्या है?

अगर आप फैशन डिजाइन में कोर्स करना चाहते हैं और इसके बारे में सारी डिटेल्स जैसे की फैशन डिजाइन  क्या है, फैशन डिजाइन कोर्स करने के क्या फायदे हैं और फैशन डिजाइन का सिलेबस,स्कोप और इसको करने के बाद जॉब और सैलरी क्या मिलती है इन सब चीजों को अच्छे से डिटेल्स में इस पोस्ट में कवर किया गया है।

What is Fashion Design in Hindi-फैशन डिजाइन क्या है?

फैशन डिजाइन हमेशा से ही काफी ट्रेन्डिन्ड कोर्स रहा है लेकिन पिछले कुछ सालों से फैशन डिजाइन एक जरूरत सी बन गयी है। फैशन डिजाइन हमारी चेतना को इस हद तक ले जाने के लिए आया है कि आज हम जो कुछ भी खरीदते हैं या पहनते हैं उसे निश्चित रूप से एक फैशन स्टेटमेंट बना लेते है।

जैसे-जैसे फैशन उद्योग हर पहलू में विकसित हो रहा है, फैशन से संबंधित कोर्स भी उभर कर सामने आए हैं और अकादमिक क्षेत्र में अपना स्थान बनाया है। आज यूजी और पीजी स्तरों पर कई फैशन डिज़ाइन कोर्स है जिन्हे आप कर सकते हैं।

फैशन डिजाइन कोर्स फैशन की दुनिया की आवश्यकताओं के अनुसार छात्रों को तैयार करते हैं। छात्रों को फैशन डिजाइनिंग, कपड़ा उद्योग, फैशन प्रबंधन और ऐसी ही अन्य चीजों के बारे में बहुत कुछ सीखने को मिलता है।

Eligibility Criteria (UG & PG) of Fashion Design

अगर आप फैशन डिजाइन में कोर्स करना चाहते हो तो है कॉलेजों और संस्थानों ने कुछ पात्रता मानदंड निर्धारित किए हैं जो छात्रों को पूरे करने होंगे अगर वे फैशन डिजाइन कोर्स में प्रवेश के लिए आवेदन करना चाहते हैं। आमतौर पर, अधिकांश कॉलेज में सबके समान पात्रता मानदंड होते हैं।

Eligibility Criteria for UG Courses:

  • यूजी स्तर पर फैशन डिजाइनिंग कोर्स में प्रवेश पाने के इच्छुक छात्रों को भारत में किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कक्षा 12 वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करनी चाहिए।
  • उन्हें एनआईडी डीएटी, यूसीईडी और एनआईएफटी प्रवेश परीक्षा जैसी प्रवेश परीक्षाओं के लिए उपस्थित होना पड़ सकता है।

Eligibility Criteria for PG Courses:

  • फैशन डिजाइनिंग में पीजी कोर्स के लिए आवेदन करने वाले छात्रों को भारत में किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज / विश्वविद्यालय से संबंधित क्षेत्र में स्नातक में 50 प्रतिशत से कम अंक नहीं होना चाहिए।
  • उन्हें आईआईएडी, सीईईडी, एनआईडी डैट और कई अन्य जैसे प्रवेश परीक्षाओं के लिए उपस्थित होना पड़ सकता है।

Eligibility for Diploma Courses:

  • डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश के लिए, छात्रों को भारत में किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10 + 2 में कम से कम 40 से 50 प्रतिशत से कम अनेक नहीं होना चाहिए।

Scope of Fashion Design in India and Abroad

फैशन इंडस्ट्री और इससे जुड़े व्यवसाय हर दिन बढ़ रहे हैं, जो अपनी सेवाओं की वैश्विक अपील को प्रोत्साहित कर रहा है। इसकी बढ़ती संभावनाओं ने शिक्षाविदों के विभिन्न स्तरों पर फैशन से संबंधित कोर्स की उच्च मांग विकसित की है।

कपड़े, आंतरिक साज-सज्जा, आभूषण या उत्पादों के संदर्भ में फैशन के रोजमर्रा के उपयोग ने अनुशासन के दायरे को विस्तृत किया है और हाल ही में बहुत से छात्रों और नियोक्ताओं को आकर्षित किया है।

आज के समय में अंतरराष्ट्रीय और साथ ही घरेलू फैशन व्यवसायों में काफी वृद्धि हुई है, जिसने फैशन डिजाइन उम्मीदवारों के लिए बहुत ही अच्छे करियर के विकल्प खोले हैं।

एक बार जो छात्र फैशन डिजाइन में अपने कोर्स को सफलतापूर्वक पूरा करते है तो इसके बाद उन्हें अंतरराष्ट्रीय और घरेलू फैशन ब्रांडों और कंपनियों, पत्रिकाओं, बड़े लेबल द्वारा भर्ती किया जाता है। यहां तक कि वह अपना खुद का स्वतंत्र फैशन व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं।

फैशन डिजाइन कोर्स सब्जेक्ट 

फैशन डिजाइन कोर्स के विषय इस तरह निर्धारित किए जाते हैं कि यह छात्रो की रचनात्मकता को बढ़ाता है। वे फैशन डिजाइन कौशल को सुधारने में मदद करते हैं और इसे अगले स्तर तक ले जाते हैं। फैशन डिजाइन में पढ़ाये जाने वाले सब्जेक्ट नीचे दिए गए हैं।

  • History of Fashion
  • Fashion Design
  • Apparel Design and Development
  • Design Process
  • Colour in Designing
  • Computer-Aided Design
  • Merchandising
  • Knitwear
  • Dyeing and Printing of Fabrics
  • Leather Designing
  • Introduction to Textiles
  • Art Appreciation

Careers in Fashion Design

दोस्तों जैसा की हमने ऊपर बताया किस फैशन डिजाइन के क्षेत्र में नौकरियों की कमी नहीं है क्योकि आज के समय में हर कोई अच्छी ड्रेस पहनना  चाहता है और इसके लिए अच्छे और स्किल्ड फैशन डिजाइनर चाहिए।

फैशन डिज़ाइन का कोर्स केवल फैशनेबल कपड़ों के बारे में नहीं है; यह कपड़ा, बुना हुआ कपड़ा, इंटीरियर डिजाइन, आभूषण डिजाइन और बहुत कुछ के बारे में भी है। एक फैशन डिजाइन छात्र एक फैशन डिजाइनर, सलाहकार, उद्यमी और कई अन्य फील्ड में नौकरी कर सकता है।

फैशन डिजाइन में स्नातक को विभिन्न लेबल, कंपनियों और व्यावसायिक घरानों के लिए डिजाइनर के रूप में भर्ती किया जा सकता है। वह अपना खुद का फैशन उद्यम भी शुरू कर सकता है और अपना रास्ता खुद बना सकता है।

फैशन डिजाइन जॉब प्रोफाइल

Fashion Designer-फैशन लेबल और फैशन कंपनियों के लिए परिधान और पोशाक डिजाइन करें।

Fashion Stylist-बेस्ट कॉस्ट्यूम, एक्सेसरीज और मेकअप चुनकर क्लाइंट को बेस्ट लुक दें।

Fashion Merchandiser-जिस ब्रांड/कंपनी के लिए आप काम करते हैं उसकी मार्केटिंग रणनीतियों और प्रचार पर काम करें।

Fashion Coordinator-फैशन कोऑर्डिनेटर का काम कंपनी की फैशन घटनाओं को समन्वित करना और महत्वपूर्ण विभागों की निगरानी करना है।

Quality Controller-क्वालिटी कंट्रोलर का काम फैशन प्रोडक्ट की गुणवत्ता मानकों की जाँच करना और यह सुनिश्चित करना कि उत्पादों को गुणवत्ता नियंत्रण बोर्ड द्वारा प्रकाशित दिशानिर्देशों के तहत संसाधित किया जाता है।

Conclusion

इस पोस्ट के माध्यम से आज हमने जाना What is Fashion Design in Hindi-फैशन डिजाइन क्या है और फैशन डिजाइन कोर्स करने के क्या फायदे है साथ ही इस  पोस्ट में फैशन डिजाइन की फीस,सिलेबस, टॉप कॉलेज,स्कोप और सैलरी की सारी डिटेल्स को भी हमने अच्छे से जाना।

Ravi Girihttps://hinditechacademy.com/
नमस्कार दोस्तों, मै रवि गिरी Hindi Tech Academy का संस्थापक हूँ, मुझे पढ़ने और लिखने का काफी शौख है और इसीलिए मैंने इस ब्लॉग को बनाया है ताकि हर रोज एक नयी चीज़ के बारे में अपने ब्लॉग पर लिख कर आपके समक्ष रख सकू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,566FansLike
823FollowersFollow

Must Read