What is Routing Information Protocol in Hindi-RIP Protocol क्या हैं ?

दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की What is Routing Information Protocol in Hindi-RIP Protocol क्या हैं ? how does rip protocol work-RIP Protocol कैसे काम करता है और RIP Protocol के Advantage और Disadvantage क्या है ?

What is Routing Information Protocol in Hindi-RIP Protocol क्या हैं

What is Routing Information Protocol in Hindi-RIP Protocol क्या हैं ?

Routing Information Protocol (RIP) एक ऐसा प्रोटोकॉल है जिसका उपयोग Network Topology Information  के आदान-प्रदान के लिए राउटर करते हैं। यह एक Interior Gateway Protocol है, और आमतौर Small Organisation के Network  में इसका उपयोग किया जाता है। RIP चलाने वाला एक राउटर अपने Routing Table के कंटेंट को हर 30 सेकंड में अपने आस-पास के Routers  को भेजता है।

RIP Protocol Open Slandered  Protocol है यह बहुत पुराना Routing Protocol है इसको 1969 में Developed किया गया था यह Distance Vector protocol है  RIP Metric कैलकुलेट करने के लिए Hop Counts Use करता है और इसमें Maximum 15 Hope Allowed है लेकिन दिनो में Networks में RIP Protocol बहुत कम Use  किया जाता है अगर इसको हम OSPF और EIGRP से Compare करे तो इसकी  Time to converge and Scalability  बहुत ही Poor है | RIP Protocol Data Carry करने के लिए Transport Layer UDP Protocol Port no 520 का use करती है

What is CCNA Certification in hindi- CCNA Certification क्या है ?

Rip timers

Update timer: 30 sec– Time between consecutive updates

Invalid timer: 180 sec– Time a router waits to hear updates. The route is marked unreachable if there is no update during this interval.

Flush timer: 240 sec– Time before the invalid route is purged from the routing table

Features of RIP :

Updates of the network are exchanged periodically.
Updates (routing information) are always broadcast.
Full routing tables are sent in updates.
Routers always trust on routing information received from neighbor routers. This is also known as Routing on rumours.

What is Telnet Protocol in Hindi-Telnet क्या हैं ?

What is SSL Protocol in Hindi-SSL प्रोटोकॉल क्या है ?

Versions of RIP protocol

अगर RIP Protocol के Version की बात की जाए तो इसके तीन version है RIP Version1RIP Version2 and RIPng. जिनके बीच क्या Difference है यह डिटेल्स में नीचे बताया  है |

RIP V1 RIP V2 RIPNG
Sends update as broadcast Sends update as multicast Sends update as multicast
Broadcast at 255.255.255.255 Multicast at 224.0.0.9 Multicast at FF02::9 (RIPng can only run on IPv6 networks)
Doesn’t support authentication of update messages Supports authentication of RIPv2 update messages
Classful routing protocol Classless protocol, supports classful Classless updates are sent

RIP Version-1     

RIP v1 Protocol को Classful  Routing Protocol के नाम से भी जाना जाता है क्योकि यह Update Packet में subset mask की Information को Send नहीं करता है |

RIP version 1 के कुछ features नीचे दिए गये है

  • Open standard Protocol
  • Classful Routing Protocol
  • Administrative distance is 120
  • Metric hope count (Maximum hope count 15 and minimum router connect 16)
  • Load Balancing for 4 equal path
  • Used for Small Organization
  • Exchange entire routing table for every 30 second

What is the OSI Model in Hindi- OSI Model क्या हैं ?

RIP Version 2

RIP v2 Protocol को Classless Routing Protocol के  नाम से जाना जाता है क्योकि यह  अपने Update Packet में subnet mask की Information भी sends करता है |

RIP version 2 के कुछ features नीचे दिए गये है

  • Classless routing protocol
  • Supports VLSM
  • Auto summary can be done on every router
  • Supports authentication
  • Trigger updates
  • Uses multicast address 224.0.0.9.

What is networking devices in Hindi-नेटवर्किंग डिवाइस क्या है ?

Advantages of RIP -RIP Protocol प्रयोग करने के फायदे

RIP का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसे Configure करना और Implement करना सरल है।  इसे समझना भी बहुत आसान है। यह आमतौर पर Loop Free  होता है।

  • Easy to configure
  • No design constraints
  • No complexity
  • Less overhead

Disadvantage of RIP-RIP Protocol प्रयोग करने के नुकसान 

RIP के अगर Disadvantage की बात की जाए तो इस Protocol को एक बड़े  Network में इस्तेमालकर ना बहुत कठिन है|  RIP भी है Router द्वारा उपयोग की जाने वाली अधिकतम Hop Number 15 है |  RIP Protocol  का एक और नुकसान High Recovery Time । एक बड़े Network में इसकी Convergence बहुत slow होती है |

  • Bandwidth utilization is very high as broadcast for every 30 second
  • Works only on hop count
  • Not scalable as hop count is only 15
  • Slow convergence

Conclusion

दोस्तों आज की इस पोस्ट में हमने जाना की What is Routing Information Protocol in Hindi-RIP Protocol क्या हैं ? how does rip protocol work-RIP Protocol कैसे काम करता है और RIP Protocol के Advantage और Disadvantage क्या है ?

दोस्तों मुझे आशा है की आज की यह पोस्ट आपको ज़रूर पसंद आयी होगी |

Leave a Reply

error: Content is protected !!