HDLC प्रोटोकॉल क्या है और यह कैसे काम करता है?

आज की इस पोस्ट में हम जानेगे की HDLC प्रोटोकॉल क्या है और यह कैसे काम करता है?  HDLC और Point to Point प्रोटोकॉल में क्या अंतर है HDLC प्रोटोकॉल के क्या Features  होते हैं। और HDLC प्रोटोकॉल के Different प्रकार के Frames के बारे में Details में जानेंगे।

HDLC प्रोटोकॉल क्या है और यह कैसे काम करता है

Point to Point प्रोटोकॉल क्या है?

What is Frame Relay-फ़्रेम रिले क्या है?

HDLC प्रोटोकॉल क्या है और यह कैसे काम करता है?

High-level Data Link Control (HDLC)  प्रोटोकॉल  Network Points या Nodes  के बीच डेटा संचारित करने के लिए Data Link Layer के Communication Protocols का एक समूह है। चूंकि HDLC एक Data Link Protocol है इसलिए Data Frame में Organized होता है। HDLC Protocol को ISO द्वारा Point to Point Data Links पर इस्तेमाल करने के लिए बनाया गया है। यह प्रोटोकॉल Full Duplex Communication को Support करता है।

HDLC प्रोटोकॉल Data को एक Data Frame में डालता है जो Devices को Data Flow Control और Error Corrections की Capabilities Provide करता है। HDLC को IBM द्वारा बनाये गए Synchronous Data Link Control (SDLC) Protocol के आधार पर बनाया गया है। HDLC प्रोटोकॉल Cisco Routers द्वारा Synchronous Serial Links पर इस्तेमाल  किया जाने वाला Default Proprietary Encapsulation है। इसलिए यह किसी दूसरे वेंडर के Router पर Implemented HDLC से Interact नहीं करेगा। यह Cisco की सभी Routers पर By Default Configure होता है इसलिए इसे अलग से Configure करने की आवश्यकता नहीं होती है।

What is Multi Protocol Label Switching-MPLS क्या है ?

HDLC Operational Modes

HDLC  दो प्रकार के Transfer Modes, Normal Response Mode और  Asynchronous Balanced Mode का समर्थन करता है।

Normal Response Mode (NRM) −यहां, दो प्रकार के स्टेशन हैं, एक Primary station जो  Commands को Send करता है और Secondary Station  प्राप्त कमांड का जवाब देता हैं। इसका उपयोग Point – to – Point और Multi Point Communications के लिए किया जाता है।

HDLC प्रोटोकॉल क्या है और यह कैसे काम करता है?

Asynchronous Balanced Mode (ABM) −यहां, कॉन्फ़िगरेशन संतुलित है, यानी प्रत्येक स्टेशन कमांड भेज सकता है और कमांड का जवाब दे सकता है। इसका उपयोग केवल point – to – point communication के लिए किया जाता है।

HDLC प्रोटोकॉल क्या है और यह कैसे काम करता है?

Fields of HDLC Frame

HDLC एक Bit – Oriented Protocol है जहां प्रत्येक फ्रेम में Six fields तक होते हैं। फ्रेम के प्रकार के अनुसार संरचना भिन्न होती है। HDLC  फ्रेम की Fields कुछ इस प्रकार हैं –

Flag −यह एक 8-bit sequence  है जो फ्रेम की शुरुआत और अंत को Marks करता है। Flag का Bit पैटर्न 01111110 होता है।

Address −इसमें रिसीवर का Address  होता है। यदि फ्रेम को Primary Station द्वारा भेजा जाता है, तो इसमें Secondary station का Address शामिल होता है। और यदि इसे Secondary station द्वारा भेजा जाता है, तो इसमें Primary Station का Address  होता है। Address  फ़ील्ड 1 बाइट से कई बाइट्स तक हो सकती है।

Control −यह 1 या 2 बाइट्स होता है जिसमें Flow और Error Control की Information  होती है।

Payload −यह नेटवर्क लेयर से डेटा को कैरी करता है। इसकी लंबाई एक नेटवर्क से दूसरे नेटवर्क में भिन्न हो सकती है।

FCS −यह Error  पता लगाने के लिए 2 बाइट या 4 बाइट्स का  Frame check Sequence  होता है।

HDLC प्रोटोकॉल क्या है और यह कैसे काम करता है?

What is NAT-Network Address Translation क्या है ?

Types of HDLC Frames

HDLC frames तीन प्रकार के होते हैं। फ्रेम का प्रकार फ्रेम के नियंत्रण क्षेत्र द्वारा निर्धारित किया जाता है। इनके बारे में निचे Detail से दिया जा रहा है।

I-frame −I-frames या Information frames  network layer से user data  ले जाते हैं। उनमें flow और error नियंत्रण जानकारी भी शामिल है।

S-frame −S-Frames या Supervisory Frames में सूचना क्षेत्र नहीं होता है। उनका उपयोग Flow और Error Control के लिए किया जाता है।

U-frame −U- फ्रेम या Un-numbered फ्रेम का उपयोग असंख्य विविध कार्यों के लिए किया जाता है, जैसे लिंक प्रबंधन। यदि आवश्यक हो तो इसमें एक सूचना क्षेत्र हो सकता है।

HDLC प्रोटोकॉल क्या है और यह कैसे काम करता है?

How does HDLC work in Hindi-HDLC प्रोटोकॉल कैसे काम करता है ?

HDLC दूरस्थ साइटों (remote sites) के लिए सिंक्रोनस सीरियल WAN लिंक पर सिंक्रोनस ट्रांसमिशन के लिए फ़्रेम में डेटा को इनकैप्सुलेट या फ़ॉर्मेट करने के लिए एक विधि को परिभाषित करता है। HDLC, एक बिट-स्ट्रीम प्रोटोकॉल है जो Error Correction के लिए 32-बिट Checksum  का उपयोग करता है और full-duplex communication  का समर्थन करता है। HDLC फ्रेम में एक flag byte  होता है। फ़्रेम की शुरुआत में एक नियंत्रण क्षेत्र का उपयोग डेटा लिंक कनेक्शन को स्थापित करने और समाप्त करने के लिए किया जाता है।

  • HDLC लिंक में एक primary station  और एक secondary station  होते हैं, प्राथमिक स्टेशन के साथ कमांड जारी करते हैं और द्वितीयक स्टेशन प्रतिक्रियाएं( response) जारी करते हैं।
  • HDLC का उपयोग मुख्य रूप से point-to-point communication के लिए किया जाता है, अन्य Layer 2 WAN प्रोटोकॉल के विपरीत, जैसे कि एसिंक्रोनस ट्रांसफर मोड (ATM), फ्रेम रिले, और X.25, जो पॉइंट-टू-पॉइंट और पॉइंट- दोनों के लिए उपयोग किए जाते हैं।
  • HDLC को data-link layer पर implement करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि स्थानीय और दूरस्थ स्टेशन(remote stations ) सीधे जुड़े हुए हैं।
  • HDLC का उपयोग अधिक जटिल कॉन्फ़िगरेशन में किया जा सकता है जिसमें एक प्राथमिक लिंक कई माध्यमिक लिंक (असंतुलित मल्टीपॉइंट कॉन्फ़िगरेशन) के लिए होता है।
  • HDLC का उपयोग आमतौर पर लीज-लाइन कनेक्शन में किया जाता है जिसमें WAN लिंक के अंतिम बिंदु CSU / DSU (चैनल सर्विस यूनिट / डेटा सर्विस यूनिट) के साथ समाप्त हो जाते हैं।

What is process of DORA in DHCP in Hindi?

HDLC और Point to Point प्रोटोकॉल के बीच अंतर क्या है?

BASIS FOR COMPARISON HDLC PPP
Expands to High-level Data Link Layer Protocol Point-to-Point Protocol
Type of protocols Bit-oriented protocol Byte oriented protocol
Used in Only synchronous media Synchronous as well as asynchronous media
Authentication No provision of authentication Provides authentication
Dynamic addressing Does not offer dynamic addressing. Dynamic addressing is used.
Implemented in Point-to-point and multipoint configurations. Only point-to-point configurations.
Compatibility with other protocols Can not be operated with non-Cisco devices. Interoperable with non-Cisco devices also.

Conclusion 

आज की इस पोस्ट में हमने HDLC प्रोटोकॉल क्या है और यह कैसे काम करता है?  HDLC और Point to Point प्रोटोकॉल में क्या अंतर है HDLC प्रोटोकॉल के क्या Features  होते हैं। और HDLC प्रोटोकॉल के Different प्रकार के Frames के बारे में Details जाना।  दोस्तों मुझे उम्मीद है की आज की यह पोस्ट आपको ज़रूर पसंद आयी होगी। 

3 Comments

Leave a Reply