IPv4 और IPv6 क्या है तथा इनके मध्य क्या अंतर है?

आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की IPv4 और IPv6 क्या है तथा इनके मध्य क्या अंतर है? IPv4 और IPv6 दोनों ही  IP Address  हैं IPv4 is 32 bit binary number होता  है जबकि IPv6 is 128 bit binary number address  है। IPv4 एड्रेस को periods  से अलग किया जाता है जबकि IPv6 एड्रेस को कॉलन द्वारा अलग किया जाता है। IPv4 & IPv6 दोनों  IP Address का उपयोग नेटवर्क से जुड़ी मशीनों की पहचान करने के लिए किया जाता है।

IPv4 और IPv6 क्या है तथा इनके मध्य क्या अंतर है

What is IP Address-IP Address क्या है?

Internet Protocol Address  को IP एड्रेस के रूप में भी जाना जाता है। यह एक numerical label  है जो कंप्यूटर नेटवर्क से जुड़े प्रत्येक डिवाइस को assigned  किया जाता है जो Communication के लिए IP का उपयोग करता है। IP Address  किसी विशेष नेटवर्क पर एक विशिष्ट मशीन के लिए एक पहचानकर्ता के रूप में कार्य करता है। IP एड्रेस को IP नंबर और इंटरनेट एड्रेस भी कहा जाता है। आईपी ​​एड्रेस एड्रेसिंग और पैकेट स्कीम के तकनीकी प्रारूप को निर्दिष्ट करता है। अधिकांश नेटवर्क आईपी को एक टीसीपी (ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल) के साथ जोड़ते हैं। यह एक Destination और एक Source के बीच एक Virtual Connection  विकसित करने की भी अनुमति देता है।

What is an IP Address-IP Address क्या है?

IPv4 वस IPv6 इंटरनेट प्रोटोकॉल क्या है?

What is IPv4- IPv4 क्या है?

IPv4 IP का पहला Version  था। यह 1983 में पहली बार ARPANET द्वारा इस्तेमाल किया गया था । आज IPv4 सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला IP Version है। इसका उपयोग Addressing System  का उपयोग करके नेटवर्क पर Devices की पहचान करने के लिए किया जाता है।

IPv4 32-Bit  का होता है। IP Version 4 से  लगभग 4 बिलियन से अधिक Network Device को IP Address Provide  की जा सकती है। IP Version 4  को अब तक प्राथमिक इंटरनेट प्रोटोकॉल माना जाता है और यह  Version इंटरनेट में Connected डिवाइस पर लगभग 94% इस्तेमाल किया जाता है।

Features of IPv4

  • Connectionless Protocol
  • Allow creating a simple virtual communication layer over diversified devices
  • It requires less memory, and ease of remembering addresses
  • Already supported protocol by millions of devices
  • Offers video libraries and conferences

What is IPv6- IPv6 क्या है?

सभी डिवाइस जो इंटरनेट से Connected हैं उनके पास एक Unique IP Address होता  है और आज के समय में लगभग सारे लोग Internet इस्तेमाल करते है और आने वाले समय में इसकी संख्या और बढ़ेगी जिसका अर्थ है कि इंटरनेट के  लिए अरबों IP Address  की आवश्यकता होगी और जैसा की हम जानते है की P Version 4 से केवल 4 बिलियन तक ही Network Device को IP Address दी जा सकती है। इस कमी को पूरा करने के लिए  IPv6 को Develop किया गया है।

यह (IP) इंटरनेट प्रोटोकॉल का सबसे नवीनतम संस्करण है। इंटरनेट इंजीनियर टास्कफोर्स ने इसे 1994 की शुरुआत में शुरू किया था।  और अधिक इंटरनेट IP Address की आवश्यकता को पूरा करने के लिए यह नया IP Version को Deployed किया जा रहा है। इसका उद्देश्य उन कमियों को पूरा करना था जो IPv4 में थी।

IPv6 128 Bit का होता है और इससे  लगभग 340 Undecillion Network Devices को Unique IP Address Provide किया जा सकता है। IPv6 को IP (इंटरनेट प्रोटोकॉल) की  अगली पीढ़ी भी कहा जाता है।

Features of IPv6

  • Hierarchical addressing and routing infrastructure
  • Stateful and Stateless configuration
  • Support for quality of service (QoS)
  • An ideal protocol for neighboring node interaction

What is LiFi-LiFi क्या है?

IPv4 और IPv6 IP Address में क्या अंतर है?

IPv4 और IPv6 दोनों ही IP Address हैं। IPv4 32 बिट बाइनरी नंबर है जबकि IPv6 128 बिट बाइनरी नंबर एड्रेस है। IPv4 एड्रेस को पीरियड्स से अलग किया जाता है जबकि IPv6 एड्रेस को कॉलन द्वारा अलग किया जाता है।

दोनों का उपयोग नेटवर्क से जुड़ी मशीनों की पहचान करने के लिए किया जाता है। सिद्धांत रूप में IPv4 और IPv6 दोनों ही एक समान हैं, लेकिन IPv4 और IPv6  के काम करने के तरीके अलग अलग है।

Basis for differences IPv4 IPv6
Size of IP address IPv4 is a 32-Bit IP Address. IPv6 is 128 Bit IP Address.
Addressing method IPv4 is a numeric address, and its binary bits are separated by a dot (.) IPv6 is an alphanumeric address whose binary bits are separated by a colon (:). It also contains hexadecimal.
Number of header fields 12 8
Length of header filed 20 40
Checksum Has checksum fields Does not have checksum fields
Example 12.244.233.165 2001:0db8:0000:0000:0000:ff00:0042:7879
Type of Addresses Unicast, broadcast, and multicast. Unicast, multicast, and anycast.
Number of classes IPv4 offers five different classes of IP Address. Class A to E. lPv6 allows storing an unlimited number of IP Address.
Configuration You have to configure a newly installed system before it can communicate with other systems. In IPv6, the configuration is optional, depending upon on functions needed.
VLSM support IPv4 support VLSM (Virtual Length Subnet Mask). IPv6 does not offer support for VLSM.
Fragmentation Fragmentation is done by sending and forwarding routes. Fragmentation is done by the sender.
Routing Information Protocol (RIP) RIP is a routing protocol supported by the routed daemon. RIP does not support IPv6. It uses static routes.
Network Configuration Networks need to be configured either manually or with DHCP. IPv4 had several overlays to handle Internet growth, which require more maintenance efforts. IPv6 support autoconfiguration capabilities.
Best feature Widespread use of NAT (Network address translation) devices which allows single NAT address can mask thousands of non-routable addresses, making end-to-end integrity achievable. It allows direct addressing because of vast address Space.
Address Mask Use for the designated network from host portion. Not used.
SNMP SNMP is a protocol used for system management. SNMP does not support IPv6.
Mobility & Interoperability Relatively constrained network topologies to which move restrict mobility and interoperability capabilities. IPv6 provides interoperability and mobility capabilities which are embedded in network devices.
Security Security is dependent on applications – IPv4 was not designed with security in mind. IPSec(Internet Protocol Security) is built into the IPv6 protocol, usable with a proper key infrastructure.
Packet size Packet size 576 bytes required, fragmentation optional 1208 bytes required without fragmentation
Packet fragmentation Allows from routers and sending host Sending hosts only
Packet header Does not identify packet flow for QoS handling which includes checksum options. Packet head contains Flow Label field that specifies packet flow for QoS handling
DNS records Address (A) records, maps hostnames Address (AAAA) records, maps hostnames
Address configuration Manual or via DHCP Stateless address autoconfiguration using Internet Control Message Protocol version 6 (ICMPv6) or DHCPv6
IP to MAC resolution Broadcast ARP Multicast Neighbour Solicitation
Local subnet Group management Internet Group Management Protocol GMP) Multicast Listener Discovery (MLD)
Optional Fields Has Optional Fields Does not have optional fields. But Extension headers are available.
IPSec Internet Protocol Security (IPSec) concerning network security is optional Internet Protocol Security (IPSec) Concerning network security is mandatory
Dynamic host configuration Server Clients have approach DHCS (Dynamic Host Configuration server) whenever they want to connect to a network. A Client does not have to approach any such server as they are given permanent addresses.
Mapping Uses ARP(Address Resolution Protocol) to map to MAC address Uses NDP(Neighbour Discovery Protocol) to map to MAC address
Combability with mobile devices IPv4 address uses the dot-decimal notation. That’s why it is not suitable for mobile networks. IPv6 address is represented in hexadecimal, colon- separated notation. IPv6 is better suited to mobile networks.

KEY DIFFERENCE

  • IPv4 32-बिट का IP Address है जबकि IPv6 128-बिट का IP Address होता है।
  • IPv4 एक Numeric Addressing Method है जबकि IPv6 एक Alphanumeric Addressing Method है।
  • IPv4 की बाइनरी बिट्स को एक डॉट (.) द्वारा अलग किया जाता है जबकि IPv6 बाइनरी बिट्स को एक कोलोन (:) द्वारा अलग किया
  • जाता है।
  • IPv4 12 हेडर फ़ील्ड प्रदान करता है जबकि IPv6 8 हेडर फ़ील्ड प्रदान करता है।
  • IPv4  Broadcast को Support  करता है जबकि IPv6 Broadcast को Support  नहीं करता है।
  • IPv4 में चेकसम फ़ील्ड हैं जबकि IPv6 में चेकसम फ़ील्ड नहीं हैं
  • IPv4 VLSM (Virtual Length Subnet Mask) को Support  करता है जबकि IPv6 VLSM को Support  नहीं करता है।
  • मैक पते को मैप करने के लिए IPv4 ARP (Address Resolution Protocol) का उपयोग करता है जबकि IPv6 मैक पते पर मैप करने के लिए NDP (Neighbour Discovery Protocol) का उपयोग करता है।

Conclusion

आज की इस पोस्ट से हमने सीखा की IPv4 और IPv6 क्या है तथा इनके मध्य अंतर क्या है? IPv4 वस IPv6 इंटरनेट प्रोटोकॉल क्या है? What is IP Address-IP Address क्या है? इस पोस्ट में हमने IPv4 और IPv6 के विभिन्न प्रकार के Features के बारे में Details में जाना।

Leave a Reply