Difference Between HDLC and PPP in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between HDLC and PPP in Hindi में जानेंगे की HDLC और PPP Protocol के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between HDLC and PPP in HindiDifference Between HDLC and PPP in Hindi

HDLC और PPP दोनों प्रोटोकॉल का इस्तेमाल कंप्यूटर नेटवर्किंग में किया जाता है अगर  HDLC और PPP के बीच मुख्य अंतर की बात करे तो यह है कि HDLC एक बिट ओरिएंटेड प्रोटोकॉल है, जबकि PPP कैरेक्टर ओरिएंटेड प्रोटोकॉल है।

HDLC और PPP WAN (वाइड एरिया नेटवर्क) में उपयोग किए जाने वाले महत्वपूर्ण डेटा लिंक लेयर प्रोटोकॉल हैं जहाँ कुशल परिणामों के लिए HDLC को PPP दोनों ही प्रोटोकॉल का इस्तेमाल एक साथ भी किया जा सकता है।

HDLC सिंक्रोनस सीरियल डेटा लिंक में डेटा पर नियोजित एनकैप्सुलेशन तकनीक का वर्णन करता है। दूसरी ओर, PPP प्रोटोकॉल पॉइंट-टू-पॉइंट लिंक में पहुँचाए गए डेटा के एनकैप्सुलेशन से संबंधित है और यह सिंक्रोनस या एसिंक्रोनस हो सकता है।

इसके आलावा भी HDLC और PPP प्रोटोकॉल में कुछ महत्वपूर्ण अंतर पाए जाते है जिनको हम डिफरेंस टेबल के माध्यम से नीचे समझेंगे लेकिन उससे पहले हम HDLC और PPP प्रोटोकॉल किसे कहते है इसको और अच्छे से समझ लेते है।

What is HDLC Protocol in Hindi-HDLC प्रोटोकॉल किसे कहते है?

HDLC जिसका फुलफॉर्म High-level Data Link Control  होता है और यह एक वाइड एरिया नेटवर्क में इस्तेमाल होने प्रोटोकॉल है जिसका उद्देश्य डेटा लिंक लेयर में डेटा के इनकैप्सुलेशन को पूरा करना होता है।

डेटा के इनकैप्सुलेशन का मतलब डेटा के फॉर्मेट को बदलना है। SDLC HDLC प्रोटोकॉल का पूर्ववर्ती है जो कि सिंक्रोनस डेटा लिंक कंट्रोल प्रोटोकॉल के लिए है। दोनों SDLC और HDLC प्रोटोकॉल को IBM द्वारा विकसित किया गया है और अंतर्राष्ट्रीय मानकों के रूप में स्वीकृति के लिए ANSI और ISO को प्रस्तुत किया गया है।

HDLC प्रोटोकॉल bit-oriented concept को फॉलो करता है और डेटा पारदर्शिता प्राप्त करने के लिए बिट स्टफिंग का उपयोग करता है।यहाँ बिट ओरिएंटेड अप्रोच का अर्थ है कि सिंगल बिट का उपयोग नियंत्रण सूचना को प्रस्तुत करने के लिए किया जाता है।

HDLC के फ्रेम संरचना में Address, control, data, checksum और flag fields शामिल होते हैं। Cisco की डिवाइस में  डिफ़ॉल्ट रूप से एनकैप्सुलेशन प्रोटोकॉल HDLC दिया गया होता है। सिस्को प्रोप्राइटरी HDLC प्रोटोकॉल केवल तभी काम करता है जब लिंक के दोनों सिरों में सिर्फ सिस्को की ही डिवाइस हों।

Frame format for the bit-oriented protocols

  • Address field – इसका उपयोग टर्मिनल का वर्णन करने के लिए किया जाता है।
  • Control field – नियंत्रण क्षेत्र में बिट्स अनुक्रम संख्या और acknowledgements के लिए अभिप्रेत है।
  • Data field – इस फ़ील्ड का उपयोग जानकारी रखने के लिए किया जाता है।
  • Checksum field -इस क्षेत्र में, बिट्स चक्रीय अतिरेक कोड प्रदर्शन के लिए आरक्षित हैं।

What is PPP Protocol in Hindi-पॉइन्ट टू पॉइंट प्रोटोकॉल किसे कहते है?

PPP का पूरा नाम पॉइंट-टू-पॉइंट प्रोटोकॉल होता है यह भी एक  वाइड एरिया नेटवर्क प्रोटोकॉल है लेकिन HDLC प्रोटोकॉल के बाद PPP प्रोटोकॉल में कई सुधार किए गए हैं।

पॉइंट-टू-पॉइंट प्रोटोकॉल Proprietary प्रोटोकॉल नहीं है, जिसका अर्थ है कि इसका उपयोग डेटा के प्रारूप में बदलाव किए बिना दो अलग-अलग प्रकार के डिवाइस के साथ किया जा सकता है।

पॉइंट-टू-पॉइंट प्रोटोकॉल डेटा लिंक लेयर का एक कम्युनिकेशन प्रोटोकॉल है, जिसका उपयोग दो सीधे कनेक्टेड (पॉइंट-टू-पॉइंट) कंप्यूटरों के बीच मल्टीरोटोकल डेटा संचारित करने के लिए किया जाता है।

यह एक byte – oriented protocol  है जो व्यापक रूप से ब्रॉडबैंड संचार में उपयोग किया जाता है जिसमें भारी loads और high speeds होती है। चूंकि यह एक डेटा लिंक लेयर प्रोटोकॉल है, इसलिए डेटा फ़्रेम में प्रेषित होता है।

पॉइंट-टू-पॉइंट प्रोटोकॉल द्वारा प्रदान की गई सेवाएँ-प्वाइंट-टू-पॉइंट प्रोटोकॉल द्वारा प्रदान की जाने वाली मुख्य सेवाएं हैं

  • प्रेषित किए जाने वाले डेटा के फ्रेम प्रारूप को परिभाषित करना।
  • दो बिंदुओं और डेटा के आदान-प्रदान के बीच लिंक स्थापित करने की प्रक्रिया को परिभाषित करना।
  • नेटवर्क संचार के लिए पता प्रदान करना।
  • कई लिंक पर कनेक्शन प्रदान करना।
  • सेवाओं की एक श्रृंखला प्रदान करके नेटवर्क परत प्रोटोकॉल की एक किस्म का समर्थन।

HDLC और PPP प्रोटोकॉल में क्या अंतर है?

अभी तक ऊपर हमने जाना की HDLC और PPP प्रोटोकॉल किसे कहते है अगर आपने ऊपर दी गयी सारी चीजे ध्यान से पढ़ी है तो आपको HDLC और PPP प्रोटोकॉल के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा।

अगर आपको अब भी HDLC और PPP प्रोटोकॉल क्या होता है और इसमें क्या अंतर है इसको समझने में में कोई Confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

S.NO HDLC PPP
1. HDLC का फुलफॉर्म High-level Data Link Control होता है। PPP का फुलफॉर्म Point-to-Point Protocol होता है।
2. HDLC एक bit oriented protocol  हैं। PPP एक byte oriented protocol है।
3. HDLC पॉइंट-टू-पॉइंट कॉन्फ़िगरेशन और मल्टी-पॉइंट कॉन्फ़िगरेशन द्वारा कार्यान्वित किया जाता है। PPP केवल पॉइंट-टू-पॉइंट कॉन्फ़िगरेशन द्वारा कार्यान्वित किया जाता है।
4. HDLC द्वारा डायनामिक एड्रेसिंग की पेशकश नहीं की गई है। जबकि इसमें डायनामिक एड्रेसिंग दी जाती है।
5. HDLC का उपयोग synchronous मीडिया में किया जाता है। PPP का उपयोग सिंक्रोनस मीडिया के साथ-साथ एसिंक्रोनस मीडिया में भी किया जाता है।
6. HDLC प्रोटोकॉल Non-Cisco डिवाइस के साथ कम्पेटिबल नहीं है। PPP गैर Cisco डिवाइस पर भी चलता है।
7. HDLC लिंक प्रमाणीकरण प्रदान नहीं करता है। जबकि PPP विभिन्न प्रोटोकॉल का उपयोग करके लिंक प्रमाणीकरण प्रदान करता है।
8. HDLC तुलनात्मक रूप से अधिक महंगा है। जबकि PPP तुलनात्मक रूप से कम खर्चीला है।

Conclusion

आज के इस पोस्ट में हमने जाना Difference Between HDLC and PPP in Hindi की HDLC और PPP Protocol के बीच में क्या अंतर होता हैं साथ में हमने यह भी जाना की की HDLC और PPP Protocol किसे कहते है।

HDLC और PPP के बीच, PPP प्रोटोकॉल HDLC से बेहतर काम करता है, क्योंकि इसमें दोनों एंड्स में Cisco के डिवाइस का उपयोग करने की कोई अनिवार्यता नहीं है।

Related Differences:

Difference Between Synchronous and Asynchronous Transmission in Hindi.

Difference Between Frame Relay and ATM in Hindi

Difference Between Serial and Parallel Transmission in Hindi

Difference Between Authentication and Authorization in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here