Difference Between VPN and Proxy in Hindi

आज के इस पोस्ट में हम Difference Between VPN and Proxy in Hindi में जानेंगे की VPN और Proxy के बीच में क्या अंतर होता हैं?

Difference Between VPN and Proxy in HindiDifference Between VPN and Proxy in Hindi

जब कोई Host कंप्यूटर किसी रिमोट कंप्यूटर से कम्युनिकेशन करता है तो उस समय Host कंप्यूटर की IP Address को छिपाने के लिए VPN और Proxy सर्वर का इस्तेमाल किया जाता है। VPN और Proxy सर्वर दोनों ही Host कंप्यूटर की IP Address को Hide करके एक सिक्योर कनेक्शन प्रदान करता है।

अगर VPN और Proxy Server के बीच मुख्य अंतर की बात करे तो Proxy सर्वर क्लाइंट के वास्तविक IP Address के बजाय Anonymous नेटवर्क आईडी का उपयोग करता है ताकि क्लाइंट का वास्तविक IP Address  प्रकट न हो।

वही दूसरी और VPN एक ऐसी mechanism है जिससे आप पब्लिक नेटवर्क के द्वारा आप अपने प्राइवेट नेटवर्क को एक्सेस कर सकते है।  यह उपयोगकर्ताओं को अपने प्राइवेट नेटवर्क को रिमोट लोकेशन से एक्सेस करने की अनुमति देता है।

इसके आलावा भी VPN और Proxy Server में कुछ महत्वपूर्ण अंतर होते है जिनको हम Difference Table के माध्यम से नीचे जानेगे लेकिन उससे पहले हम VPN और Proxy Server को और अच्छे से समझ लेते है।

What is VPN in Hindi -VPN किसे कहते है?

VPN जिसका पूरा नाम Virtual Private Network होता है यह पब्लिक नेटवर्क और प्राइवेट नेटवर्क के बीच एन्क्रिप्टेड कनेक्शन प्रदान करता है। VPN के द्वारा प्राइवेट नेटवर्क की इनफार्मेशन को सुरक्षित रूप से पब्लिक नेटवर्क (इंटरनेट) के द्वारा एक्सेस की जा सकती है।

किसी असुरक्षित वेबसाइट को ओपन करना या असुरक्षित वाई-फाई नेटवर्क पर अपनी पर्सनल इनफार्मेशन को शेयर करने से आपकी सेंसटिव इनफार्मेशन गलत हांथो में जा सकती है। यही कारण है कि एक Virtual Private Network  को अपनी ऑनलाइन सुरक्षा और गोपनीयता के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

VPN एक डिवाइस से नेटवर्क तक इंटरनेट पर एक एन्क्रिप्टेड कनेक्शन है। एन्क्रिप्टेड कनेक्शन यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि आपका Important Data सुरक्षित रूप से ट्रांसमिट हो। यह Unauthorized लोगों से आपके डेटा को एक्सेस करने से रोकता है और Users को रिमोट लोकेशन से अपने ऑफिस के नेटवर्क को एक्सेस करने अनुमति देता है। VPN टेक्नोलॉजी का व्यापक रूप से कॉर्पोरेट वातावरण में उपयोग किया जाता है।

How a VPN works in Hind-VPN कैसे काम करता है।

VPN कैसे काम करता है  इसको हम एक उदाहरण के माध्यम से समझने की कोशिश करते है और मान लेते है कि एक कम्पनी के दो नेटवर्क हैं, Network 1 और Network 2 जिसमे से Network 1 दिल्ली में है और  Network 2 मुंबई में है। अब अगर दिल्ली के नेटवर्क का कोई यूजर अपने मुंबई के नेटवर्क को एक्सेस करना चाहे तो वह इसके लिए VPN का इस्तेमाल करके उसको एक्सेस कर सकता है।

What is Proxy in Hindi -Proxy किसे कहते है?

एक Proxy Server एक कंप्यूटर या सॉफ्टवेयर है जो क्लाइंट और वास्तविक सर्वर के बीच मध्यस्थ के रूप में व्यवहार करता है। यह आमतौर पर क्लाइंट के IP Address को छुपाता है और उसे नेटवर्क से कनेक्ट करने के लिए एक anonymous network ID  का उपयोग करता है।

अगर आप बिना Proxy के अपने वेब ब्राउज़र पर कोई वेबसाइट ओपन करते तो आप उसके साथ IP के द्वारा डायरेक्टली कनेक्ट होते है। और यदि आप प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग कर रहे हैं प्रॉक्सी सर्वर आपकी ओर से उस वेबसाइटों के साथ कम्युनिकेशन करता हैं और इंटरनेट ट्रैफ़िक प्रॉक्सी सर्वर के माध्यम से ही सेंड और रिसीव होता है।

Proxy servers offers the following basic functionalities:

  • Firewall and network data filtering.
  • Network connection sharing
  • Data caching

Difference Between VPN and Proxy in Hindi

अभी तक ऊपर हमने जाना की VPN और Proxy किसे कहते है? अगर आपने ऊपर दी गयी सारी बाते ध्यान से पढ़ी है तो आपको VPN और Proxy के बीच क्या अंतर है इसके बारे में पता चल गया होगा ।

अगर आपको अब भी VPN और Proxy में कोई confusion है तो अब हम आपको इनके बीच के कुछ महत्वपूर्ण अंतर नीचे बताने जा रहे है।

S.NO VPN PROXY
1. यह Encryption, authentication और integrity protection प्रोवाइड  करता है। Proxy सर्वर सिक्योरिटी प्रदान नहीं करता है।
2. VPN में Use होने वाले प्रोटोकॉल PTTP (Point to point tunneling protocol), L2TP (Layer 2 tunneling protocol) है।  Proxy में प्रयोग होने वाले प्रोटोकॉल FTP, SMTP और HTTP है।
3. VPN फ़ायरवॉल पर काम करता है। Proxy ब्राउज़र पर काम करता है।
4. VPN पब्लिक नेटवक के द्वारा अपने प्राइवेट नेटवर्क को एक्सेस करने में मदद करता है। इसमें ऐसा कुछ भी नहीं होता है।
5. VPN क्लाइंट के IP Address को नहीं छिपाता है। Proxy क्लाइंट के वास्तविक IP Address के बजाय anonymous network ID का उपयोग करता है।
6. VPN End यूजर के बीच Tunnel को बनाता है। Proxy End यूजर के बीच Tunnel को नहीं बनाता है।
7. VPN यूजर को अधिक सिक्योरिटी प्रदान करता है। प्रॉक्सी किसी भी प्रकार की सुरक्षा प्रदान नहीं करता है।

Conclusion

इस पोस्ट में हमने जाना Difference Between VPN and Proxy in Hindi की VPN और Proxy के बीच में क्या अंतर होता हैं? इसके आलावा हमने VPN और Proxy क्या होता है इसको भी अच्छे से समझा।

VPN और Proxy Server दोनों का इस्तेमाल के ही उद्देश्य के लिए किया जाता है लेकिन एक Proxy सर्वर की तुलना में VPN Users को अधिक सुरक्षा प्रदान करता है।

Related Differences:

Difference Between Router and Firewall in Hindi

Difference Between Firewall and Antivirus in Hindi

Difference Between Firewall and Proxy Server in Hindi

Difference Between Firewall and Proxy Server in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here